आर्थिक लक्ष्य को पाने में नाकाम रहा पाकिस्तान, वृद्धि दर सिर्फ 3.3% पर अटका

इस्लामाबाद। जून में समाप्त हो रहे वित्त वर्ष में पाकिस्तान की आर्थिक वृद्धि दर गिरकर 3.3 प्रतिशत पर आ जाएगी। यह 6.3 प्रतिशत के लक्ष्य की तुलना में बेहद कम है। आर्थिक समीक्षा के अनुसार, सरकार लगभग सभी क्षेत्रों में लक्ष्य को पाने में असफल रही है।

वित्त वर्ष 2018-19 की आर्थिक समीक्षा अगले वित्त वर्ष के बजट से एक दिन पहले 11 जून को आधिकारिक तौर पर जारी होने वाली है। हालांकि अखबार डॉन ने इसकी जानकारियां रविवार को ही प्रकाशित कर दी। डॉन की खबर के अनुसार, पशुपालन एकमात्र ऐसा क्षेत्र रहा जिसका प्रदर्शन लक्ष्य से कुछ ऊपर रहा। अन्य सभी क्षेत्रों का प्रदर्शन लक्ष्य से नीचे रहा है।

औद्योगिक क्षेत्र उत्पादन में 7.6 प्रतिशत की वृद्धि दर का लक्ष्य के मुकाबले वृद्धि 1.4 प्रतिशत ही रही। विनिर्माण क्षेत्र में 8.10 प्रतिशत की दर से वृद्धि के लक्ष्य की तुलना में दो प्रतिशत गिरावट दर्ज की गयी।

सेवा क्षेत्र के लिये 6.5 प्रतिशत का लक्ष्य रखा गया था लेकिन इसकी वृद्धि दर 4.7 प्रतिशत रही। इसी तरह निर्माण क्षेत्र में 10 प्रतिशत के लक्ष्य की तुलना में 7.6 प्रतिशत की दर से वृद्धि हुई है। सरकार ने इस दौरान सिर्फ पशुपालन क्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन किया और इस क्षेत्र की वृद्धि दर 3.8 प्रतिशत की तुलना में चार प्रतिशत रही है।

=>