बिक्रम में गोलीबारी में ज़ख़्मी कारोबारी की हुई मौत , आक्रोश में सड़क जाम

मृतक कारोबारी ने कभी रंगदारी संबंधित नहीं किया था शिकायत ,अपराधी चिन्हित ,जल्द गिरफ्तारी -डीएसपी 

>> बाप जी गैंग ने सभी कारोबारियों से चार-चार लाख रूपये की मांगी है रंगदारी

>> एक माह के अंदर तीसरी बार कारोबारियों को बनाया गया निशाना

>> पूर्व में बिक्रम में 5 कारोबारियों की हो चुकी है हत्या ,पुराने दिन लौटने से दहशत

पटना ( अ सं ) ।बुधवार को गोलीबारी में जख्मी हुआ कारोबारी ने आखिरकार दम तोड़ दिया । इसके बाद आक्रोशित कारोबारी सड़क पर उतर आएं है और सड़क जाम कर प्रदर्शन कर रहे हैं और अपराधियों को जल्द से जल्द गिरफ्तारी की मांग किया हैं ।   बिहटा-नौबतपुर के बाद अपराधियों के निशाने पर बिक्रम के कारोबारी हैं । पुलिस के अनुसार मृतक कारोबारी संतोष कुमार ने पूर्व में रंगदारी संबंधित कोई सूचना नहीं दिया था। डीएसपी मनोज कुमार पांडे ने बताया की अपराधियों को चिन्हित कर लिया गया हैं ,जमीन के अंदर से भी पुलिस खोजकर गिरफ्तार कर सलाखों की पीछे डालने का काम करेंगी ।बिक्रम के कारोबारियों से एक सप्ताह पहले धमकी भरा पत्र भेजकर और मोबाइल पर फोन कर रंगदारी की मांग किया था।
   बीते 15 दिनों से बिक्रम के कारोबारी दहशत में जी रहे हैं । बाप जी गिरोह लोगों के लिए खौफ बन गया हैं । गिरोह का सरगना कौन है, यह पता करने में पुलिस विफल साबित हो रही है वहीं अपराधी लगातार रंगदारी को लेकर धमकी दे रहे है और बाजार में खुलेआम गोलीबारी कर रहे । बुधवार की सुबह प्रखंड कार्यालय के समीप किराना कारोबारी संतोष कुमार को गोली मार दिया हैं । गोली पेट में लगी है ,इलाज के क्रम में जाने के दौरान जख्मी कारोबारी संतोष कुमार ने दम तोड़ दिया । इसको लेकर आक्रोशित कारोबारियों ने सड़क जाम कर प्रदर्शन कर रहे हैं । जिससे परिचालन बाधित हैं ।
     मालूम हो की दो सप्ताह पहले बिक्रम के एक बड़े कारोबारी से रंगदारी की मांग किया था, इसके बाद गोलीबारी की थी। एक सप्ताह पहले प्रचार इलेक्ट्रिक के मालिक मनोज कुमार से रंगदारी की मांग की गयी थी। नहीं देने पर गोलीबारी की गयी । बाप जी गिरोह से बिक्रम के सभी कारोबारियों से चार-चार लाख रूपये रंगदारी की मांग की हैं । जिससे दहशत का आलम हैं । कारोबारी समाज भयभीत है यहां तक की मॉर्रनिंग वॉक तक करना छोड़ दिया हैं । पूर्व के वर्षों में रंगदारी को लेकर बिक्रम में  5 कारोबारी की हत्याएं हो चुकी हैं । नीतीश सरकार में लोगों ने राहत की सांस लिया था लेकिन फिर पुराने दिन लौटते देखकर दहशत में हैं ।
=>