उत्तर प्रदेशहरदोई

कुतबे बिलगा्म हुजरा नशीं सैय्यद जैनुल आबदीन रह0का मनाया गया कुल शरीफ

बिलगा्म,हरदोई।खानकाह ए सुगरविया बडी सरकार मे हजरत मौलाना हाफिज कारी सैयद जैनुलआबेदीन अलैहिर्रहमा का कुल शरीफ हुआ आप की विलादत 1914 ईस्वी में हुई 8साल की उम्र में आपके वालिद माजिद सैयद बशीर हुसैन का साया सर से उठ गया आप की परवरिश आप के मामू हजरत सैयद फजल हुसैन अलैहिर्रहमा ने की उन्हीं के जेरे तालीम व तरबियत रहकर आप और आपके छोटे भाई सैयद शाहिद हुसैन अलैहिर्रहमा ने हिफ्ज कुरआन तकमील फरमाई फिर दोनों भाई अपने मामू के हमराह लखनऊ शेखूल कुर्रा हजरत कारी जियाउद्दीन अलैहिर्रहमा की बारगाह मे हाजिर हो कर बाजाब्ता फन तजविद व किरत के साथ कुआन पाक पढा और इसमें महारत हासिल की – इस फन में आप के उस्ताद कारी नजर मोहम्मद बिन अबुल फजल फकीर उल्लाह अमरोही है हिफ्ज किरत पर उबुर हासिल करने के बाद दरजात आलेमियत की तलीम के लिए फिरंगी महल के पास हाजिर हुए और उलमा ए फिरंगी महल से दरस ए निजामी तिब और फलसफे की मुकम्मल तालीम हासिल की १३५४ हिजरी सनद फरागद से सरफराज हुए 3 साल तक फिरंगी महल में दरस व इफता की तालीम देते रहे उसके बाद इस्लामिया इंटर कॉलेज शाहजहांपुर में अरबी फारसी अदब की काबिले क़द्र व मिसाली खिदमात का कारनामा अंजाम देकर ३ जून १९८० को कालेज की जिम्मेदारी से रिटायर्ड होकर बिलग्राम वापस तशरीफ ले आए और आखिर उम्र तक गोशा नशीन रहे आप अपने मामू रईसुल औलिया हजरत मीर सैयद हबीब अहमद इस्माइली मसौली के दस्ते हक परस्त पर सिलसिले आलिया कादरिया रज्जाकिया मे बैयत हुए मुर्शीद ए गिरामी ने तमाम खानदानी सिलसिले कि इजाजत व खिलावत अता फरमाई – आपको कुतबूल अकताब हजरत मौलाना फजले रहमान गंज मुरादाबादी अलैह रहमा के सिलसिले नक्शबंदीया रहमानिया की इजाजतो खिलाफत हासिल थी
12 सवाल मुकर्रम-१४१६ हिजरी 3 मार्च बरोज यकशमबा ठीक फजिर के बहरे सियादत्त का गौहर ए नायाब हमेशा हमेशा के लिए रूपोश हो गया जानशीन ए कुतूबे बिलग्राम हजरत सय्यद उवैस मुस्तफा वास्ती ने कुल शरीफ की रस्म अदा की– कुल शरीफ में सैयद जिलानी मियां वास्ती– सैयद बादशाह हुसैन वास्ती– सैयद फैजान मुस्तफा व अंजुमन गुलामान ए रसूल के अध्यक्ष वाजिद हुसैन उवैसी-उपाध्यक्ष शजर हुसैन उवैसी उपस्थित रहे

loading...
=>

Related Articles