जेल में बंदियों की मौज-मस्ती मामले में जिम्मेदारों ने तोड़ी चुप्पी

लखनऊ। जनपद रायबरेली व सुलतानपुर में सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियो से जेल प्रशासन में खलबली मच गई। आनन-फानन में प्रेस विज्ञप्ति जारी कर सफाई देते हुए जांच के आदेश दिये गये हैं। वहीं आरोपी बंदियों को दूसरे जेल में शिफ्ट कर मामले की लीपापोती का जा रही है।
इस संबंध में जिम्मेदार अधिकारियों ने बताया कि  जिला कारागार सुल्तानपुर में बंदियों द्वारा बनाया गया वीडियो ,जिसमें जेल अधीक्षक से बातें व रुपया ,कारतूस व गिलास में पेय पदार्थ दिखाया जा रहा है। उक्त मामले में बताया गया कि सुल्तानपुर कारागार में बंद चार बंदियों इमरान, सिराज, मुस्तकीम और रवि सिंह को जेल में अनुशासनहीनता करने के आरोप में दूरस्थ जेल में स्थानांतरित करने की जानकारी मिली तो बंदियों ने  जेल अधीक्षक को धमकी दी कि जेल का वीडियो वायरल कर देंगे। इस बावत शासन के आदेश पर इमरान को बरेली , सिराज को कासगंज ,रवि सिंह को कानपुर नगर तथा मुस्तकीम को चित्रकूट स्थानांतरित कर दिया गया है। उधर जिला कारागार रायबरेली में निरूद्घ  विचाराधीन बंदी आकाश यादव निवासी भदोखर जनपद रायबरेली द्वारा जिला कारागार रायबरेली में दाखिल हुए तीन बंदियों दिलीप ,धर्मेंद्र तथा भास्कर को उठक- बैठक कराते तथा आपस में एक दूसरे को पिटवाते हुए एक वीडियो के मामले में बताया जा रहा है कि आकाश यादव जनपद रायबरेली के प्रधान देशराज पासी का मित्र तथा वर्तमान में जिला कारागार रायबरेली में हत्या लूट डकैती जैसे गंभीर अपराधों में निरूद्घ है। दिलीप ,धर्मेंद्र व भास्कर द्वारा ग्राम गांव के प्रधान के साथ मारपीट के मामले में जेल में निरूद्घ है। बीते 16 जून को अस्पताल के अहाते में ग्राम प्रधान के साथी आकाश यादव ने उसे उठक-बैठक करायी तथा  उन्हें एक दूसरे से पिटवाया था। इस संबंध में अकाश यादव की तलाशी कराई गई तो उसके पास से दो मोबाइल फोन व चार्जर बरामद हुआ। वहीं अकाश यादव को दूसरे जेल में स्थानांतरित किया जा रहा है। वहीं उक्त मामले में आलाधिकारियों द्वारा जांच-पड़ताल की जा रही है।
=>