Main Sliderउत्तर प्रदेशलखनऊ

2022 तक सभी तकनीकी संस्थानों को एनबीए एक्रिडिएट करवाने का लक्ष्य

प्राविधिक शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन ‘गोपाल जी’ ने बीते एक वर्ष की प्राविधिक शिक्षा की उपलब्धियों के बारे में लोक भवन मीडिया सेंटर में दी जानकारी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सचिवालय के लोक भवन मीडिया सेंटर में बुधवार को प्राविधिक एवं चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन ‘गोपाल जी’ ने बीते एक वर्ष की प्राविधिक शिक्षा की उपलब्धियों के बारे में मीडिया कर्मियों को विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा कि प्राविधिक शिक्षा का दायित्व संभालने के साथ ही उनके समक्ष चार बड़ी चुनौतियां थीं जिनमें राजकीय व अनुदानित तकनीकी संस्थानों में शिक्षकों की कमी पूर्ण करना, आवश्यक इन्फ्रास्ट्रक्चर बढ़ाना, ट्रेनिंग और प्लेसमेंट में सुधार करना और राष्ट्रीय स्तर पर प्रदेश की तकनीकी शिक्षा की गुणवत्ता को प्रस्तुत करने के लिए नेशनल बोर्ड आॅफ एक्रिडिएशन(एनबीए) से उच्च शिक्षा संस्थानों को एक्रिडिएट करवाना शामिल था।

विभागीय मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री के मार्गदर्शन में 280 से अधिक शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया पूरी की गई। इसके अलावा इन्फ्रास्ट्रक्चर विकास के लिए 200 करोड़ की पंडित दीन दयाल गुणवत्ता सुधार योजना लागू की गयी है, जिसके माध्यम से 100 करोड़ रुपए की परियोजनाओं के शिलान्यास और लोकार्पण संपन्न करवाए जा चुके हैं। श्री टंडन ने कहा कि इस वर्ष ट्रेनिंग और प्लेसमेंट का कार्य युद्ध स्तर पर किया गया है जिसके तहत यूनिवर्सिटी इंडस्ट्री इन्टरफेस सेल का गठन किया गयाज्ञ। जिसके माध्यम से अब तक 20 हजार से अधिक रोजगार के सुलभ अवसर पूल कैंपस ड्राइव्स के माध्यम से छात्र-छात्राओं को उपलब्ध करवाए जा चुके हैं।

एनबीए एक्रिडिएशन की दिशा में हुए कार्यों का परिणाम है कि एमएमएमटीयू की तीन ब्रांच, एचबीटीयू की चार ब्रांच और यूपीटीटीआई, कानपुर की एक ब्रांच को इस वर्ष एनबीए एक्रिडिएशट मिला है। 2022 तक समस्त राजकीय एवं अनुदानित संस्थानों को एनबीए एक्रिडिएट करवाने का लक्ष्य है। पहले चरण में 50 निजी संस्थानों को चयनित कर उनके मेंटर और मेंटी संस्थान नियुक्त किये गये हैं, जो इस वर्ष एनबीए से एक्रिडियेशन करवाने के लिए लगातार कार्य कर रहे हैं। वहीं प्रधानमंत्री की ‘बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाओ’ योजना के बाबत योगी सरकार के मंत्री ने कहा कि यूपीएसईई-2018 की 100 टॉपर छात्राओं को लैपटॉप और 100 टॉपर एससी/एसटी छात्र- छात्राओं को लैपटॉप प्रदान किया गया। यूपीएसईई-2019 व संयुक्त प्रवेश परीक्षा-2019 के माध्यम से प्रवेश लेने वाले क्रमश: 200 और 300 छात्र-छात्राओं को लैपटॉप दिया जाना है।

प्राविधिक शिक्षा विभाग द्वारा इस बार डिग्री और डिप्लोमा, दोनों सेक्टर में प्रवेश लेने वाले आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग अभ्यर्थियों के लिए 10 प्रतिशत के आरक्षण की व्यवस्था की जा रही है। प्राविधिक शिक्षा विभाग के अंतर्गत तीन प्राविधिक विश्वविद्यालय, 14 राजकीय/अनुदानित/घटक संस्थान, लगभग 600 निजी कॉलेज और लगभग 2.5 लाख छात्र तथा 147 राजकीय, 19 अनुदानित, 5 अन्य विभागों द्वारा संचालित पॉलिटेक्निक संस्थाएं तथा 1117 निजी क्षेत्र की पॉलिटेक्निक संस्थाएं संचालित हैं, जिनमें 2.25 लाख छात्र-छात्राएं अध्ययनरत हैं। इस मौके पर एकेटीयू कुलपति प्रोफेसर विनय कुमार पाठक सहित विवि के रजिस्ट्रार सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहें।
——–

loading...
=>

Related Articles