अपराधियों के लिए जेल बनी मौज-मस्ती का अड्डा

अब उन्नाव जेल में तमंचा लहराते वीडियो वायरल

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के जेल अपराधियों के लिए मौज-मस्ती का अड्डा बन गया है। पहले नैनी जेल, फिर रायबरेली जेल, सुलतानपुर जेल और अब उन्नाव जेल की वायरल तस्वीरें यूपी की जेलों की हकीकत बयां करने के लिए काफी हैं। यहां अपराधी होटल जैसा मजा ले रहे हैं। इन्हें देखकर यही लगता है कि अपराधी जेलों में सजा नहीं मजा कर रहे हैं।
सोशल मीडिया पर उन्नाव जिला जेल का वीडियो वायरल हुआ है, जिसमें जेल में बंद अपराधियों को हर तरह की सुविधा दी जा रही है, यहीं से वे अपने गैंग को चला रहे हैं। ताजा वीडियो में दो शातिर अपराधी जेल में खुलेआम असलहा लहराते दिख रहे हैं। ये अपराधी शराब पीते भी नजर आ रहे हैं। वायरल वीडियो में अपराधी खुलेआम योगी सरकार को चुनौती देते हुए यह कहते नजर आ रहे हैं कि मेरठ जेल हो या फिर उन्नाव, वे प्रदेश की किसी भी जेल को कार्यालय बना देंगे। वे अपने पास तमंचों के साथ ही मोबाइल को भी दिखाते नजर आ रहे हैं। वीडियो में कुख्यात बदमाश अंकुर के पास असलहा है और वह वीडियो में धमकी देता नजर आ रहा है कि वह कहीं भी किसी को मार सकता है। दूसरे वीडियो में मेरठ के बदमाश अमरीश के पास भी असलहा दिख रहा है। वह कह रहा है कि योगी सरकार ने उसे मेरठ से उन्नाव भेजा है। मेरठ हो या उन्नाव वह किसी भी जेल को कार्यालय बना सकता है।

अधिकारियों ने कहा- मिट्टी का है तमंचा
उन्नाव जेल के वायरल वीडियो के संबंध में गृह विभाग ने सफाई देते हुए कहा है कि वीडियो में दिख रहे बंदी में एक अमरीश निवासी मेरठ है, जो आजीवन कारावास की सजा काट रहा है। उसे मेरठ जेल से स्थानांतरित किया गया है। दूसरा बंदी गौरव प्रताप सिंह उर्फ अंकुर निवासी रायबरेली है। उसे लखनऊ से स्थानांतरित किया गया है। अधिकारियों का कहना है वीडियो की जांच के बाद सामने आया है कि अंकुर के हाथ में जो तमंचा दिख रहा है वह मिट्टी का है। खाने में भी कोई ऐसी चीज नहीं है जो आपत्तिजनक हो। जांच के बाद सामने आया है कि जेल कर्मियों की मिलीभगत से ऐसा किया गया है। इस कार्य में हेड जेल वार्डर माता प्रसाद, हेमराज और जेल वार्डर अवधेश साहू, सलीम खां की संलिप्तता पाई गई है। इस संबंध में डीजी जेल आनंद कुमार ने कहा कि दोषियों की जिम्मेदारी तय की जा रही है। चार जेल कर्मियों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जा रही है।

=>