उत्तर प्रदेशलखनऊ

SGPGI लखनऊ के रेडियोलॉजी विभाग द्वारा Techaspire कार्यशाला आयोजित

लखनऊ। SGPGI लखनऊ के रेडियोलॉजी विभाग द्वारा टेलीमेडिसिन विभाग के ऑडिटोरियम में Techaspire कार्यशाला का आयोजन किया गया।
वर्कशॉप पूरी तरीके से टेक्नोलॉजिस्ट की गुणवत्ता के लिए समर्पित था। वर्कशॉप में SGPGI, KGMU, RML, एरा मेडिकल कॉलेज, विवेकानंद हॉस्पिटल के टेक्नोलॉजिस्ट ने हिस्सा लिया व बीएचयू बनारस और मेडिकल मेरठ मेडिकल कॉलेज के विशेषज्ञ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े।
बांग्लादेश एवं नेपाल के रेडियोलोजी विभाग से जुड़े टेक्स्ट ने टेलीमेडिसिन विभाग की मदद से वर्कशॉप का लाइव प्रसारण देखा।
केजीएमयू के प्रोफेसर डॉक्टर अनिल परिहार ने टेक्नोलॉजिस्टो को नई-नई तकनीकी से अपडेट होने पर जोर दिया और सीटी स्कैन में हो रहे बदलाव को समझने पर जोर दिया।
वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े बीएचयू के डॉक्टर आशीष वर्मा ने इंटरवेंशनल रेडियोलॉजी में टेक्नोलॉजिस्ट के अहम रोल को परिभाषित करते हुए जानकारी दी कि शरीर के ट्यूमर को बिना चीर फाड़ या मेडिसिन के रेडियो किरणों के माध्यम से खत्म कर सकते हैं उन्होंने यह भी बताया कि शरीर के अंदर हो रहे रक्त स्राव को इंटरवेंशन रेडियोलॉजी के माध्यम से बंद किया जा सकता है।।
आज के दौर में रेडियोटेक्निक द्वारा खून की बंद नदियों को भी खोलना आसान हो गया है इस विधि से हम महिलाओं में फेलोपियन ट्यूब(बच्चादानी) को भी बिना चीरा लगाए खोल सकते हैं जो बिना टेक्नोलॉजिस्ट के कर पाना मुश्किल होता है।।
Techaspire कि कोर्स डायरेक्टर SGPGI की रेडियोडायग्नोसिस विभाग की प्रोफेसर डॉ. अर्चना गुप्ता व कोर्स कोओर्डिनेडर सरोज कुमार वर्मा की देखरेख में वर्कशॉप सफलता संपन्न हुआ।
वर्कशॉप के समापन के बाद दिन भर की दी गई जानकारी पर क्विज प्रतियोगिता भी आयोजित की गई।

loading...

Related Articles

WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com