कैदी भागने व कोर्ट में हमले के लिए घातक हथियार बनती हैं प्रेमिका !शहीद होते हैं जवान

न्यायालय दानापुर में रेश्मा, छपरा में खुशबू एवं आरा में लंबू शर्मा की प्रेमिका शामिल

>> बाढ़ ,बक्सर, रोहतास, पटना ,दानापुर, आरा आदी कोर्ट में हुये हैं हमले

>> कोर्ट में लगा मेटल डिटेक्टर क्या हाथी के दांत समान हैं ,हथियार संग जाने पर क्यों मालूम नहीं हुई

रवीश कुमार मणि
पटना ( अ सं ) । कोर्ट परिसर से कैदी भागने या फिर कोर्ट में हमला की बात हो, अपराधी , महिलाएं को घातक हथियार के रूप में इस्तेमाल करते आएं हैं ।या कहें तो अपने प्रेमी को आजाद कराने के लिए अपराध की रास्ता अपनाती हैं ,यहाँ तक की अपने जान की आहूती तक दे देती हैं ।वहीं इनके हमले में पुलिस जवान शहीद होते रहे हैं व आम आदमी इनके शिकार होते रहे हैं । पटना हाईकोर्ट ने कोर्ट की सुरक्षा को लेकर कई बार बिहार सरकार को निर्देश दिया लेकिन कार्रवाई और सुरक्षा के नाम पर संसाधन शून्य हैं । यह तय हैं की पुलिस ने घटना में शामिल अपराधियों को देर-सवेर जरूर गिरफ्तार कर लिया लेकिन जो सिपाही शहीद हुये वह तो लौट कर नहीं आएं । जबकि कोर्ट परिसर में अपराधी लगातार घटना को अंजाम देकर पुलिस को एक प्रकार से चुनौती देते रहे हैं । सुरक्षा के नाम एक मेटल डिडेक्टर गेट लगा हैं लेकिन वह सिर्फ दिखावा के लिए ही साबित हो रही हैं तभी तो कोर्ट परिसर में महिलाएं हथियार ,बम के साथ पहुंच गयी । इन प्रेमिकाओं को यह सोचना चाहिए की अपने प्रेम के पाने के लिए किसी का सुहाग उजाड़ दे रहे हैं ।

आरा कोर्ट परिसर में बम विस्फोट ,सिपाही व प्रेमिका  की मौत

बीते 23 जनवरी 2015 को आरा कोर्ट परिसर में बम विस्फोट हुई ।इसमें एक सिपाही और एक महिला की मौत हुई । बम विस्फोट कराने के पीछे कुख्यात अपराधी लंबू शर्मा था। कोर्ट से भागने की साजिश रची गयी थी, इसको लेकर लंबू शर्मा की प्रेमिका झोला में भरकर बम लाई थीं । अचानक बम टकरा गयी और विस्फोट हो गयी ।इसमें दो की मौत के साथ दर्जनों आम आदमी शिकार हुये थे। बम विस्फोट में मारी गयी महिला, कुख्यात अपराधी लंबू शर्मा से बेपनाह मोहब्बत करती थीं ।

छपरा कोर्ट परिसर में हुये धमाका में जख्मी हुई थी खुशबू

बीते 18 अप्रैल 2016 में छपरा कोर्ट में बम विस्फोट हुआ था। इसमें एक युवती जख्मी हुई थी। पुलिस की जांच में पता चला की युवती मानव बम बनकर कोर्ट आयी थीं और वह अपने प्रेमी के कहने पर मानव बम बनी थी।  प्रेमी के खिलाफ कोर्ट में गवाही चल रही थी।मुख्य गवाह को बम से उड़ाना था लेकिन ऐसा न होकर अचानक बम विस्फोट कर गयी और इसमें खुशबू बुरी तरह जख्मी हो गयी । प्रेमी के चक्कर में शायद खुशबू की एक पैर भी काटना पड़ा । बहुत दिनों तक वह पीएमसीएच में इलाज चला।

दानापुर कोर्ट में पत्नी / प्रेमिका ने पुलिस पर हमले के लिए थमाया हथियार

बीते बुधवार को दानापुर कोर्ट में हमला हुई । इसमें एक सिपाही प्रभाकर राज की मौत हो गयी । हत्या को अंजाम पेशी के लिए बेऊर जेल से आया मिराज नामक अपराधी ने दिया । मिराज को यह हथियार कोई और नहीं बल्कि इसका पत्नी या कहें प्रेमिका रेशमा ने दिया । रेशमा से हथियार मिलते ही मिराज ने सामने आएं सिपाही पर गोलियां दाग दिया । पुलिस ने अपराधी मिराज की पत्नी /प्रेमिका रेशमा को गिरफ्तार कर लिया हैं ।

कोर्ट परिसर में लगातार होते रहे हैं हमले

दानापुर कोर्ट में हुये हमला कोई नई बात नहीं हैं ।इससे पहले  वहीं दानापुर कोर्ट से गब्बर नामक अपराधी फरार हुया था। इससे पहले बक्सर, सासाराम, छपरा, बाढ़ ,आरा आदी कोर्ट में हमले हुये हैं और कैदी फरार हुये । पीएमसीएच में इलाज कराने आएं कैदी हथकड़ी साथ फरार हुये हैं लेकिन पुलिस लापरवाही से बाज नहीं आयी हैं । जिसका खामियाजा उन्हें अपनी जान देकर पुरी करनी पड़ी हैं ।
=>