उत्तर प्रदेशलखनऊ

सिपाहियों की हत्या कर फरार बंदियों पर ढाई-ढाई लाख का ईनाम 

लखनऊ।  संभल जिले में दो सिपाहियों की हत्या कर फरार हुए तीनों बंदियों शकील, कमल व धर्मपाल की गिरफ्तारी पर शासन ने ढाई-ढाई लाख रुपये का ईनाम घोषित किया है। डीजीपी ओपी सिंह ने संभल व आसपास के सभी जिलों को तीनों की गिरफ्तारी होने तक सीमाएं सील कर सर्च आपरेशन जारी रखने का निर्देश दिया है। डीजीपी के निर्देश पर एसटीएफ के आईजी अमिताभ यश और मुरादाबाद रेंज के आईजी रमित शर्मा संभल पहुंचकर तीनों बंदियों को पकडऩे के लिए चलाए जा रहे अभियान की निगरानी कर रहे हैं। रेंज के सभी जिलों की पुलिस के अलावा एसटीएफ की टीमें भी तलाश में जुटी हुई हैं। लोगों से अपील की गई है कि वे हत्या कर फरार बंदियों को शरण न दें। पकड़े जाने पर उनके विरुद्ध भी कठोर कार्रवाई की जाएगी।
20 जुलाई को होने वाला था फैसला
बुधवार को संभल जिले की चंदौसी अदालत में पेशी के बाद मुरादाबाद जेल लौटते समय बनियाठेर थाना क्षेत्र में तीन बंदियों ने सिपाहियों की आंख में मिर्ची झोंकने के बाद तमंचे से गोली मारकर उनकी हत्या कर दी थी। इसके बाद तीनों बंदी पुलिस वैन की ग्रिल टेढ़ी करके बाहर आ गए। वे अपने साथ एक सिपाही की रायफल भी लेकर भागे हैं। तीनों बंदियों के फरार होने की इस सनसनीखेज घटना के बाद पूरे मुरादाबाद मंडल में अलर्ट जारी किया गया, लेकिन अभी तक उनकी गिरफ्तारी नहीं हो पाई है। तीनों फरार बंदी मुरादाबाद के वर्ष 2014 के चर्चित इंजीनियर अपहरण और हत्याकांड के आरोपी थे। आगामी 20 जुलाई को ही इस मामले में कोर्ट से फैसला होने वाला था। पुलिस वैन में मुरादाबाद जेल से कुल 24 विचाराधीन बंदियों को संभल की चंदौसी अदालत में पेशी के लिए लाया गया था लेकिन अन्य बंदी फरार नहीं हुए। यहां तक कि इसी मामले में आरोपी एक अन्य बंदी भी नहीं भागा।
loading...
=>

Related Articles