प्राइमरी स्कूलों के सभी सम्बद्ध अध्यापकों की सम्बद्धता तत्काल समाप्त करने के आदेश

गोण्डा। देवीपाटन मण्डल के आयुक्त महेन्द्र कुमार ने बेसिक शिक्षा की मण्डलीय समीक्षा के दौरान निर्देश दिए हैं कि मण्डल के सभी जनपदों में सम्बद्ध किए गए प्राइमरी स्कूलों के सभी अध्यापकों की सम्बद्धता तत्काल समाप्त की जाय। सभी विद्यालयों में कम से कम दो अध्यापक हों तथा कोई भी विद्यालय अध्यापक विहीन न रहे तथा किसी भी विद्यालय में मानक से अधिक शिक्षक न रहने पावें।
बेसिक शिक्षा विभाग की मण्डलीय समीक्षा में आयुक्त ने निर्देश दिए कि मण्डल के जनपदों में मानक से अधिक अध्यापकों की तैनाती ऐसे विद्यालयों में समायोजित कर दी जाएं जहां पर छात्र संख्या सर्वाधिक हो। तत्पश्चात घटते क्रम में अधिकाधिक संख्या वाले विद्यालयों में अतिरिक्त अध्यापक लगाए जाएं। आयुक्त ने स्पष्ट निर्देश दिए कि मण्डल के जनपदों के बेसिक शिक्षा अधिकारी प्रयास कर यह सुनिश्चित करें कि उनके जनपदों के सभी विद्यालय गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दे सकें। उन्होने यह भी निर्देश दिए कि सभी खण्ड शिक्षा अधिकारी व एनपीआरसी सभी प्राथमिक विद्यालयों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के योग्य बनाने में अपना योगदान दें। उन्होने कहा कि प्राइमरी स्कूलों के निरीक्षण के समय प्रायः देखा जाता है कि जितने बच्चों का नामांकन है उससे कम उनकी उपस्थिति पाई जाती है। शिक्षक व अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि प्राइमरी स्कूलों में नामांकन के सापेक्ष बच्चों की उपस्थिति रहे। बैठक में आयुक्त ने कहा कि विभागीय अधिकारी विद्यालयों की पुरानी छतों पर नए छत की ढलाई यदि कहीं हो तो जांच कर लें तथा उसे नियमानुसार ध्वस्त कराकर पुनर्निर्माण की कार्यवाही कराएं जिससे कहीं भी किसी भी विद्यालय में कोई भी अप्रिय घटना न होने पावे।
समीक्षा के दौरान आयुक्त ने कहा कि कस्तूरबा गांधी विद्यालयों को मानक के अनुरूप भोजन व निर्धारित सामग्री मिलें, इसके लिए वितरण सामग्री में सम्बन्धित कक्षा की कम से कम दो छात्राओं को भी शामिल किया जाय ताकि उपलब्धता के अनुसार सामग्री वितरण शत-प्रतिशत हो सके। उन्होने यह भी निर्देश दिए कि इन विद्यालयों का निरीक्षण करने वाले अधिकारी स्वयं भोजन चखकर भोजन की गुणवत्ता परखें तथा स्टाक का सत्यापन भी करें। उन्होने गोण्डा व बलरामपुर के प्राइमरी स्कूलों में साफ-सफाई का कार्य और अधिक कराए जाने के निर्देश दिए।
समीक्षा बैठक में आयुक्त ने छात्र नामांकन सूची, जूता-मोजा, पाठ््य पुस्तक, यूनीफार्म का वितरण, आईजीआरएस की सूचना, यूनीफार्म की गुणवत्ता तथा स्कूलचलो अभियान व स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति, कन्या सुमंगला योजना, वृक्षारोपण, जर्जर भवनों की पहचान आदि की प्रगति की भी गहन समीक्षा की। बैठक में आयुक्त को अवगत कराया गया कि आगामी 05 सितम्बर तक बच्चों की उपस्थिति व अध्यापकों की संयुक्त फोटोग्राफ भी भेजना अनिवार्य किया जा रहा है जिसमें एप के माध्यम से यह सुनिश्चित किया गया है कि कोई अध्यापक गैलरी से पुरानी फोटो नहीं अपलोड कर पाएगा।
बैठक में सहायक निदेशक बेसिक शिक्षा देवीपाटन मण्डल विनय मोहन-1, बीएसए गोण्डा मनिराम सिंह सहित अन्य जनपदों के बीएसए व सम्बन्धित अधिकारीगण रहे।

=>