पटना के कुख्यात पर लगा सीसीए , भोजपुर के कुख्यात पर तैयारी

 जेल के अंदर से गिरोह संचालित करने की रिपोर्ट ,बाहर आने पर अशांति की आशंका

>> कुख्यात रंजीत चौधरी का वायरल ऑडियो जिला -प्रशासन के पास पहुंचा, कार्रवाई में जुटी पुलिस

>> ऑडियो में बाप-बेटा गिरोह के सरगना को अशब्द , सिर्फ बुटन चौधरी से दुश्मनी की बात

>> कुख्यात पवन चौधरी पर भोजपुर जिला पुलिस -प्रशासन लगा चुकी है सीसीए

रवीश कुमार मणि
पटना ( अ सं  ) । भोजपुर और पटना के अधिकांश कुख्यात अपराधी सलाखों के पीछे हैं । जेल से गिरोह का संचालित करने का भले ही आरोप लगता रहे लेकिन पुलिस क्षेत्रों में शांति -व्यवस्था कायम करने की हर एक कवायद में जुटी हैं और अपराधियों को बक्सना नहीं चाह रही हैं । इसी मुहिम में पटना का कुख्यात अमित सिंह पर सीसीए लगाया गया हैं वहीं भोजपुर के कुख्यात रंजीत चौधरी पर सीसीए लगाने की तैयारी में कार्रवाई तेज कर दी गयी हैं । पूर्व में भोजपुर जिला पुलिस -प्रशासन ने कुख्यात पवन चौधरी पर सीसीए लगा, जेल से बाहर निकलने का रास्ता बंद कर दिया हैं ।

कुख्यात रंजीत चौधरी के वायरल ऑडियो की जांच में जुटी पुलिस ,परिवार ने बताया साजिश

भोजपुर का कुख्यात रंजीत चौधरी से जुड़ा एक वायरल ऑडियो ,वाट्सअप यूनिवर्सिटी पर चल रहा हैं । इसमें रंजीत चौधरी ,अपने गांव के एक युवक को बोल रहा हैं की तुमको शौक हैं रायफल लेकर फोटो खिंचवाने का ,मैं तो इसके लिए गैंग ही खड़ा कर रखा था ,हमारे साथ ही रहो , इधर-उधर नहीं करने का धमकी /चेतावनी दिया ।इसके बाद रंजीत चौधरी ,पटना जिले के कुख्यात बाप-बेटा गिरोह का नाम लेकर कई तरहों से अभद्र भाषा का प्रयोग किया हैं । इसके साथ ही वायरल ऑडियो में कई चर्चाएं हैं । सुत्र बताते हैं यह वायरल ऑडियो कुछ दिन पुराना  हैं जब रंजीत चौधरी बेऊर जेल में बंद था। इधर रंजीत चौधरी के परिवार ने बताया की यह हमारे विरोधी गांव के विरोधी बुटन चौधरी की साजिश हैं । हमारे घर के परिवार के एक सदस्य की हत्या हो गयी हैं । बुटन चौधरी के घर वाले के खिलाफ कानूनी लड़ाई लड़ रहे हैं और आगे भी जारी रहेगा ।वायरल ऑडियो को भोजपुर जिला पुलिस -प्रशासन को कार्रवाई के लिए दी गयी हैं ।  पुलिस मामले की जांच कर रही हैं  ।

जेल अधीक्षक से मांगी गयी रिपोर्ट -आईजी

जेल में मोबाइल फोन प्रतिबंधित हैं । जो बंदी इस्तेमाल करेंगे ,उनके खिलाफ आपत्तिजनक सामान रखने के आरोप में एफआईआर दर्ज होगी । जेल अधीक्षकों से रिपोर्ट मांग की गयी हैं की जेल के अंदर मोबाइल कैसे पहुंच रहा हैं । हाल ही भोजपुर जेल में हुये छापेमारी में 18 मोबाइल और चार्जर, सीम कार्ड लवारिश स्थिति में जेल कैंपस में मिला था।
=>