पटना के आलू व्यवसायी रंगदारी से परेशान , अपराधियों के निशाने पर पत्रकार !

 हाल ही में रंगदारी को लेकर कपड़ा दुकानदार को गोली मारकर कर दिया था जख्मी

>> अपराधियों के खिलाफ पत्रकार के नेतृत्व में कारोबारियों ने किया था आंदोलन

रवीश कुमार मणि
पटना ( अ सं ) । राजधानी जिले पटना में अपराधियों के खौफ से कारोबारियों में दहशत व्याप्त हैं । रंगदारी नहीं देना कारोबारियों के लिए जान पर आफत बन गयी हैं । एक कुख्यात ने आलू व्यवसायी से रंगदारी की मांग कर परेशान कर दिया हैं । पुलिस में शिकायत करने पर जान मारने की धमकी दिया हैं । इधर रंगदारी की मांग कर रहे अपराधियों का विरोध कर रहे पत्रकार निशाने पर हैं । दो माह के अंदर पत्रकार की हत्या का डेट लाइन ,अपराधियों ने फिक्स्ड कर दिया हैं । रंगदारी की मांग मामले में पुलिस ने अनभिज्ञता जाहिर किया हैं तो वहीं पत्रकार मामले में पुलिस ने चुप्पी साध लिया हैं ।

वाट्सअप कॉल कर आलू व्यवसायी से मांगी रंगदारी

पुलिस इंकाउंटर में मारा गया कुख्यात मुचकूंद का गिरोह को पुनः एक बार संगठित कर खड़ा करने का काम उसके  ही गांव का किशन नामक अपराधी कर रहा हैं । हाल ही में नौबतपुर के संगीता वस्त्रालय के मालिक को रंगदारी नहीं देने पर गोली मारकर जख्मी कर दिया गया । इसमें किशन का नाम सामने आया । घटना को अंजाम देने के बाद सोशल मीडिया के माध्यम से खुलेआम चुनौती दिया था। लिखा था बॉस इस बैक। पुलिस ने दबिश बनाने के लिए परिवार को उठाया ,कुर्की -जब्ती की कार्रवाई किया लेकिन किशन सरेंडर नहीं किया ।
      हाल में कुख्यात किशन ने नौबतपुर के एक बड़े आलू व्यवसायी से रंगदारी की मांग किया हैं । रंगदारी नहीं देने पर अंजाम भुगतने को चेतावनी दिया हैं । आलू व्यवसायी ने रंगदारी देने से इंकार कर दिया हैं । लेकिन किशन ,आलू व्यवसायी को लगातार वाट्सअप कॉल कर परेशान कर दिया हैं ।इसको लेकर आलू व्यवसायी दहशत में हैं । मालूम हो की नौबतपुर में रंगदारी को लेकर दवा व्यवसायी की हत्या हो चुकी हैं । कई दुकानदारों पर गोलीबारी हो चुकी हैं । पुलिस ने बताया की ऐसी रंगदारी की कोई शिकायत सामने नहीं आया हैं ।

पत्रकार के नेतृत्व में आंदोलन व पहल पर रंगदारी देने से इंकार

पटना जिले के पश्चिमी इलाके में रंगदारी की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रहा हैं । बिहटा, नौबतपुर, बिक्रम में हत्याएं हो चुकी हैं । दर्जनों कारोबारियों पर गोलीबारी हो चुकी हैं । छोटे से लेकर बड़े दुकानदारों को निशाना बनाया गया हैं । पटना पश्चिमी का एक हिन्दी दैनिक का पत्रकार ने कारोबारियों से रंगदारी नहीं देने को कहां और अपराधियों के खिलाफ आंदोलन किया । कारोबारियों ने भी एक जुटता का परिचय दिया और डीएसपी से लेकर डीजीपी से मिले और अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग तो की ही ,स्वयं की सुरक्षा के लिए तैयारी कर ली। डीएसपी पालीगंज मनोज पांडे के नेतृत्व में दो दर्जन अपराधियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया ।
 कुछ दिन पहले अपराधी जेल से छूटकर बाहर आ गये हैं । सुत्रों की माने तो यह अपराधी गिरोह पुनः सक्रिय होने के लिए जुट गये हैं । बीती रात दशहरा के दिन एक बगीचे में 4-6 अपराधी ,शराब पी रहे थे। इसी में प्लानिंग की गयी की सबसे पहले पत्रकार को रास्ते से हटाना जरूरी हैं । इसके लिए डेट लाइन ,दो महिने फिक्स्ड कर दिया गया हैं । पत्रकार ने प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया सहित वरीय पुलिस पदाधिकारियों से शिकायत किया हैं । इस संबंध में पुलिस ने चुप्पी साध लिया हैं ।

रंगदारी को लेकर गोलीबारी से दहशत

दुर्गा पूजा के पूर्व बिहटा के तीन कारोबारियों से रंगदारी की मांग की गयी । इसके पूर्व बिक्रम थाना क्षेत्र के गोरखरी स्थित एक रोड कंट्रक्शन कंपनी पर गोलीबारी की गयी । इस घटना के कुछ दिनों बाद वहीं गांव में एक गृह निर्माण कंपनी पर गोलीबारी की गयी । नौबतपुर के संगीता वस्त्रालय के मालिक को गोली मारकर जख्मी कर दिया गया तो कुछ दिनों बाद एक और कारोबारी पर गोलीबारी की गयी । हालाँकि पुलिस सक्रियता से कार्रवाई करते हुये कई अपराधियों को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी हैं ।
loading...
=>