कारोबार

अलग—अलग बैंको में चेक बाउंस होने पर लगता है इस तरह का अलग—अलग चार्ज

नई दिल्ली : कई बार ऐसा होता है कि आप किसी के नाम से कोई चेक दें, और किसी वजह से वह चेक बाउंस हो जाए. चेक बाउंस होने की स्थिति में ज्यादातर बैंक अपने ग्राहक से चेक बाउंस चार्ज लेते हैं. ये चार्ज बैंकों के अनुसार अलग-अलग है. भारतीय स्टेट बैंक (SBI), ICICI बैंक और HDFC बैंक के चेक बाउंस चार्ज कई बातों पर निर्भर करते हैं. इसमें चेक बाउंस होने का कारण और प्रकृति शामिल है. SBI, ICICI बैंक और HDFC बैंक के चेक बाउंस चार्ज पर जीएसटी (GST) भी लगता है.

बाउंस चेक को फिर से किया जा सकता है जमा
अगर खाते में अपर्याप्त फंड या हस्ताक्षर नहीं मिलने के चलते चेक बाउंस हुआ है तो डिफाल्टर और प्राप्तकर्ता दोनों से उनका बैंक चार्ज काटेगा. हालांकि, बाउंस चेक फिर से जमा किया जा सकता है.

SBI में चेक बाउंस चार्ज
मौटे तौर पर एसबीआई में चेक बाउंस चार्ज ICICI बैंक और HDFC बैंक के मुकाबले कम है. एसबीआई की वेबसाइट के अनुसार अगर आपने एसबीआई के अकाउंट में कोई चेक जमा किया है और उसे जारी करने वाले बैंक ने बिना भुगतान किए लौटा दिया तो 1 लाख रुपये तक के चेक पर 150 रुपये चार्ज लिया जाएगा. एक लाख रुपये से अधिक के चेक पर 250 रुपये चार्ज होगा. इस पर जीएसटी अलग से देना होगा. अगर अपर्याप्त फंड के चलते चेक बाउंस हुआ है तो 500 रुपये चार्ज देना होगा. अगर किसी अन्य तकनीकी कारण से चेक बाउंस हुआ है तो चार्ज 150 रुपये होगा.

HDFC बैंक में चेक बाउंस चार्ज
एचडीएफसी बैंक में अपर्याप्त फंड के चलते एक तिमाही में पहली बार चेक वापस होने पर 350 रुपये और उसके बाद 750 रुपये चार्ज लगता है. तकनीकी कारण से चेक बाउंस होने पर 50 रुपये चार्ज देना होगा.

ICICI बैंक में चेक बाउंस चार्ज
आईसीआईसीआई बैंक में लोकल चेक डिपॉजिट की स्थिति में वित्तीय कारणों से चेक बाउंस होने पर 100 रुपये का चार्ज लगेगा. गैर-वित्तीय कारणों से महीने में पहली बार चेक रिटर्न होने पर 350 रुपये और उसके बाद 750 रुपये चार्ज देना होगा. आउट स्टेशन चेक बाउंस होने पर 150 रुपये अतिरिक्त देने होंगे.

loading...
=>

Related Articles