Main Sliderअन्य राज्यउत्तर प्रदेशलखनऊ

सर्दी की आहट के साथ उपचुनाव खत्म, पर बनी रही राजनीतिक सरगर्मी

उत्तर प्रदेश विधानसभा की 11 सीटों के लिए शांतिपूर्ण ढंग से उपचुनाव संपन्न

कैंट सीट पर कम मतदान होना बीजेपी खेमे में छाया सन्नाटा, विपक्षी दलों के बीच कांटे की टक्कर!

लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधानसभा की 11 सीटों के लिए सोमवार को कुल मिलाकर शांतिपूर्ण ढंग से विधानसभा उपचुनाव संपन्न हो गये। वहीं तमाम बूथों पर वोटरों के बीच यह भी चर्चायें सुनने को मिलीं कि विधानसभा चुनाव गर्मी के दिनों में हुआ और उपचुनाव सर्दियों के आहट के साथ संपन्न हुआ। हालांकि उपचुनाव को लेकर सत्ताधारी दल के साथ-साथा विपक्षी दलों के बीच राजनीतिक सरगर्मी बनी रही। विधानसभा उपचुनाव के चुनावी मैदान में कुल 109 प्रत्याशी रहें जिनके बीच जीत-हार की जोर-आजमाइश पूरे दिन चलती रही। मतदान सुबह 7 बजे से शुरू हुआ और शाम 6 बजे तक मतदान केंद्र परिसर में जितने भी वोटर लाइन में लगे रहें, उन्हें मताधिकार देने का पूरा अवसर दिया गया। यूपी विस उपचुनाव की बात करें तो लखनऊ कैंट सहित सहारनपुर जिले की गंगोह, रामपुर, अलीगढ़ की इगलास सुरक्षित, कानपुर नगर की गोविंद नगर, चित्रकूट जिले की मानिकपुर, प्रतापगढ़, बाराबंकी जिले की जैदपुर सुरक्षित, अम्बेडकरनगर की जलालपुर, बहराइच की बलहा सुरक्षित और मऊ जिले की घोसी सीट पर उपचुनाव हुआ। इन सबमें सबसे अहम सीट लखनऊ कैंट रही क्योंकि यह सीट राजधानी में ही स्थित है। सवेरे योगी सरकार के कैबिनेट मंत्री डॉ. महेंद्र सिंह ने इंडियन पब्लिक इंटर कालेज प्रेमनगर में परिवार संग वोट डाला।

लखनऊ कैंट भाजपा प्रत्याशी सुरेशचंद्र तिवारी ने पत्नी अर्चना तिवारी, बेटी अर्चना, बहु ऋचा व शिवानी के साथ जनता गर्ल्स इंटर कालेज, भीमनगर आलमबाग में मतदान किया।

इसी कड़ी में कैंट से बसपा उम्मीदवार अरूण द्विवेदी ने कई बूथों पर उपचुनाव के मद्देनजर की गर्इं व्यवस्थाओं को जांचा-परखा। लखनऊ कैंट उपचुनाव में 97 वर्ष के अमीर चंद्र शर्मा ने जीआईसी सिंगरनागर बूथ पर वोट देकर खासकर युवाओं को इसके लिये संदेश दिया।लखनऊ कैंट के 13 उम्मीदवारों में भाजपा के सुरेश तिवारी, सपा के कैप्टन आशीष चतुवेर्दी, कांग्रेस के दिलप्रीत और बसपा के अरुण द्विवेदी जोर-आजमाइश करते दिखें। हालांकि यूपी सरकार के लिये अहम मानी जाने वाली इस सीट पर सोमवार को अपेक्षा के विपरीत सबसे कम मतदान हुआ जिसको लेकर बीजेपी खेमे में काफी सन्नाटा छाया हुआ है।

बता दें कि इस सीट पर दो दशक से अधिक समय तक बीजेपी का कब्जा बरकरार रहा। लेकिन अभी बीजेपी की सत्ता रहते हुए इस सीट पर कम मतदान होना बीजेपी नेतृत्व व संगठन के लिये चिंता का विषय बना हुआ है। ऐसे में इस चुनावी दंगल में अबकी बार हाथी, साइकिल और पंजे के बीच भी जबरदस्त टक्कर दिख रही है। हालांकि इस चुनावी माहौल में इगलास के गांव उडम्बरा में विकास कार्य ना होने पर चुनाव का बहिष्कार किया। बताया जा रहा है कि यहां पर करीब आधा दर्जन वोट ही पड़े हैं। ग्रामीणों की मानें तो गांव से कोई वोटिंग नहीं की जाएगी। मौके पर प्रशासन भी पहुंच चुका है।

दूसरी ओर कानपुर के लोकनाथ पब्लिक स्कूल मतदान केंद्र पर कांग्रेस की महिला कार्यकतार्ओं के साथ मारपीट की खबरें आई। सूचना पर पहुची कांग्रेस प्रत्याशी करिश्मा ठाकुर ने भाजपा कार्यकतार्ओं पर आरोप लगाते हुए डीएम और प्रेक्षक से शिकायत की है।

loading...
=>

Related Articles