Main Sliderराष्ट्रीय

आतंकी संगठन सुरक्षा बलों, सरकारी प्रतिष्ठानों को बना सकते हैं निशाना, जारी हुआ अलर्ट

नई दिल्ली। आतंकी संगठन जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों और सरकारी प्रतिष्ठानों को निशाना बना सकते हैं। अंतरराष्ट्रीय समुदाय का ध्यान खींचने के लिए आतंकी बंधक बनाने जैसी घटना को भी अंजाम दे सकते हैं।

खुफिया एजेंसियों ने यह जानकारी दी है।अधिकारियों ने खुफिया जानकारी के हवाले से कहा कि सूचना से यह भी संकेत मिला है कि जैश-ए-मोहम्मद, लश्कर-ए-तैयबा और हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकवादी कश्मीर के जोनाकर, रैनावाड़ी, सफाकदल और धर्मशाल जैसे क्षेत्रों में सुरक्षाबलों को निशाना बनाने की फिराक में हैं।

उन्होंने बताया कि आतंकवादी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ध्यान आकृष्ट करने के लिए लंबे समय तक बंधक बनाने जैसी स्थिति उत्पन्न करने के वास्ते श्रीनगर में सुरक्षाबलों के प्रतिष्ठानों तथा सरकारी कार्यालयों को निशाना बना सकते हैं। खुफिया जानकारी के अनुसार आतंकवादियों ने अवंतीपुरा, श्रीनगर या रंग्रेथ हवाई पट्टियों में से एक को भी निशाना बनाने की साजिश रची है।

जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को हटाने और राज्य को दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांटने के केंद्र के फैसले के बाद से सुरक्षाबल हाई अलर्ट पर हैं।उधर, पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आइएसआइ ने एक नए आतंकी संगठन ऑल इंडिया लश्करे तैयबा का नाम आगे किया है।

साजिश ये है कि आने वाले समय में भारत में होने वाले आतंकी हमलों की जिम्मेदारी नए आतंकी संगठन पर डाल दी जाए, जिससे लश्करे तैयबा के संस्थापक हाफिज सईद को बचाया जा सके। नए आतंकी संगठन ने अपनी हिट लिस्ट भी जारी की है, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह के साथ-साथ भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली का भी नाम शामिल है।आतंकी हिट लिस्ट में पहली बार किसी क्रिकेटर का नाम आया है।

ऑल इंडिया लश्करे तैयबा को पहचान देने के लिए इसकी ओर से बाकायदा एनआइए को धमकी भरा पत्र भी भेजा गया है। इसके भेजने वाले के नाम की जगह आल इंडिया लश्करे तैयबा हाई पावर कमेटी, कोझीकोड, केरल लिखा हुआ है।

loading...
Loading...

Related Articles