हाथरस

कछपुरा में बुखार का कहर जारी : शिशु सहित मां की मौत

हाथरस-सासनी। थाना चन्दपा क्षेत्र के आगरा रोड स्थित गांव कछपुरा (बिसाना) में बुखार का प्रकोप अभी जारी है। बुखार जानलेवा साबित हो रहा है। इस भयंकर बुखार ने एक नवजात शिशु सहित उसकी मां को भी अपना शिकार बना लिया। दोनों की मौत हो जाने से गांव में भारी कोहराम व अफरा तफरी मची हुई है। गांव में फैले बुखार के प्रकोप को लेकर जहां स्वास्थ्य विभाग की पूरी टीम व पुलिस व प्रशासनिक अमला डेरा जमाये हुए हैं वहीं गांव में भाजपा नेता, विधायक आदि भी गांव का दौरा कर रहे हैं और स्वास्थ्य व प्रशासनिक अधिकारियों पर गांव में फैली बीमारी से मुक्ति के लिए दबाब व कारगर कदम उठाने के लिए वार्ता कर रहे हैं। गांव में आज भी तमाम प्रशासनिक अधिकारी व भाजपा नेताओं का जमावडा रहा।
बताया जाता है गांव कछपुरा में फैले बुखार की बीमारी के प्रकोप से गांव में हा-हाकार मचा हुआ है और गांव का ऐसा कोई घर नहीं हैं जिसमें चारपाई न बिछी हो और हर घर में कोई न कोई बुखार की चपेट में है तथा गांव में बुखार से पीडित एक गर्भवती महिला करीब 32 वर्शीय श्रीमती विरमा देवी पत्नी भूरी सिंह को बुखार से पीडित होने व प्रसव पीडा होने पर उसे उपचार हेतु आगरा एक प्राइवेट अस्पताल ले जाया गया जहां पर बताया जाता है उसने एक शिशु को कल जन्म दिया था लेकिन शिशु की कल ही मौत हो गई तथा आज उक्त महिला विरमा देवी की भी तडके सुबह मौत हो जाने से गांव में कोहराम मच गया है जबकि मृतका विरमा देवी के पति भूरी सिंह पुत्र पप्पू सिंह भी बुखार से पीडित हैं और उसे स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा उपचार हेतु बागला अस्पताल भिजवाया गया है और पति भी गम्भीर रूप से बुखार से पीडित है।
गांव कछपुरा में बुखार की बीमारी से हर कोई परेशान है तथा गांव में बुखार से अब तक 4 लोगों की मौतें हो चुकी हैं जबकि इससे पूर्व एक दम्पत्ति श्रीमती नीलम 35 वर्श व इसके पति अजीत की मौत हो चुकी है जबकि इनके बच्चे भी बुखार से पीडित हैं। गांव में बुखार की फैली बीमारी को लेकर आज अपर स्वास्थ्य निदेशक डा. एमएल अग्रवाल द्वारा गांव व बागला अस्पताल का निरीक्षण किया गया और स्वास्थ्य अधिकारियों को आवश्यक शीघ्र कदम उठाने के निर्देश दिये गये। इनके अलावा गांव में एडीएम, एसडीएम, सीएमओ, एसीएमओ, डीपीआरओ, सीओ सादाबाद के अलावा थाना चन्दपा व मुरसान के प्रभारी आदि अधिकारी गांव में जमे रहे वहीं स्वास्थ्य विभाग द्वारा बुखार की बीमारी पर नियंत्रण न कर पाने से गांव के लोगों में भारी आक्रोश है।
गांव कछपुरा में फैली बुखार की बीमारी को लेकर आज भाजपा के सिकन्द्राराऊ विधायक व जिलाध्यक्ष आदि द्वारा दौरा किया गया और गांव में बीमारियों से चार व्यक्तियों की मौत से जिले में अफरा तफरी मच गई है। प्रशासनिक अधिकारी गांव में डेरा डाले हुये हैं। भाजपा जिलाध्यक्ष गौरव आर्य, सिकन्द्राराऊ विधायक वीरेन्द्र सिंह राना, शहराध्यक्ष मोहन पंडित, भारतीय खाद्य निगम भारत सरकार के सदस्य डा. अविन शर्मा, नगर महामंत्री अशोक गोला आदि कार्यकर्ता गांव कछपुरा में पहुंचे। गांव निवासियों के साथ मिलकर मृतकों के परिवारीजनों को सांत्वना दी और प्रशासनिक अधिकारियों से गांव में हो रही बीमारियों की समस्या को दूर करने की बात कही।
मुख्य चिकित्साधिकारी ने समस्या से अवगत कराया तो भाजपा शहराध्यक्ष मोहन पंडित से मुख्य चिकित्सा अधिकारी से तीखी नोंकझोंक हो गई और मोहन पंडित ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग का कार्य सिर्फ कागजों में दिखाई दे रहा है। जनता के बीच जीरो है। विदित दिनों भाजपा टीम का प्रतिनिधि मण्डल गम्भीर बीमारियों को लेकर गांव नगला चौबे में हो रहे रोगों को लेकर मिला था लेकिन आज तक कोई भी टीम नगला चौबे में नहीं पहुंची है। अगर कोई घटना घट जाती है तो इसका जिम्मेदार कौन होगा। ऐसी ही घटना गांव कछपुरा में घटित हुई है। गांव की जनता ने पहले से ही सचेत किया लेकिन मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने कोई ठोस कदम नहीं उठाया है।
गांव में पहुंचने वालों में जिलाध्यक्ष गौरव आर्य, विधायक वीरेन्द्र सिंह राना, शहराध्यक्ष मोहन पंडित, जिला महामंत्री संजय सक्सैना, डा. अविन शर्मा, चौ. चन्द्रवीर सिंह, नरेन्द्र पाल शर्मा, अशोक गोला, बबलू गौतम, मथुरा प्रसाद गौतम, ओजवीर सिंह राना, नीरज गोस्वामी, रवि वार्श्णेय आदि मौजूद थे।

loading...
Loading...

Related Articles