लाइफ स्टाइल

अदरक और शहद के असरदार फायदे जान हैरान हो जाएगें आप, पाचन क्रिया जैसी कई बीमारियों में है फायदे मंद

अदरक और शहद को एक साथ मिलाकर प्रयोग करने पर स्वास्थ्य को निम्नलिखित फ़ायदे होते हैं-

  • पाचन क्रिया में सहायक

अदरक और शहद पाचन क्रिया को सुदृढ़ बनाने में सहायता करते हैं। अदरक का रस मुँह में मौजूद लार ग्रंथियों में लार के उत्पादन को प्रेरित करता है और पेट में मौजूद ग्रंथियों में डाइजेस्टिव जूस को बनने के लिए प्रेरित करता है।

इसी तरह शहद पेट में मौजूद एसिडिटी को कम करने में सहायता करता है। यदि अदरक और शहद को एक साथ प्रयोग किया जाए तो ऐसे में हमारा पाचन एक सकारात्मक तरीक़े से अच्छा बनता है।

ये दोनों चीज़ें पेट में बाईल जूस के उत्पादन को प्रेरित करती हैं। बाइल जूस वसा के कॉम्पलेक्स कणों को सरल कणों में तोड़ने के लिए प्रयोग किया जाता है।

जब एक पर्याप्त मात्रा में पेट में बाइल जूस का उत्पादन होता है तो ऐसे में वसा का पाचन अच्छे तरीक़े से हो जाता है। वसा का सही ढंग से पाचन हो जाने पर रक्त में वसा की मात्रा बढ़ने नहीं पाती है जिससे कि कई रोगों से बचा जाता है।

अदरक और शहद का मिश्रण ना सिर्फ़ सही पाचन में सहायता करता है बल्कि ये दोनों चीज़ें भोजन से पोषक तत्वों को ठीक से अवशोषण करने की दर को भी सुदृढ़ करते हैं।

इस तरह हमारे शरीर के लिए आवश्यक अनेक प्रकार के पोषक तत्वों की पूर्ति हमारे शरीर में हो जाती है।

  • कमज़ोरी और मतली से छुटकारा

अदरक और शहद का मिश्रण कमज़ोरी और मतली से छुटकारा दिलाता है। कई बार ऐसा देखा गया है कि कीमोथेरेपी के बाद मरीज़ को काफ़ी कमज़ोरी आ जाती है और उसे बार बार उल्टियां होती है। ऐसे में उसे शहद और अदरक का मिश्रण दिया जा सकता है जो कि कोई भी साइडइफेक्ट नहीं रखता है।

ठीक इसी तरह महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान मॉर्निंग सिकनेस, मूड स्विंग और मतली की समस्या से छुटकारा पाने के लिए अदरक और शहद के मिश्रण का सेवन करना चाहिए।

जिन लोगों को पाचन से संबंधित समस्याएं हैं उनमें भी कमज़ोरी और मतली की समस्या कॉमन रूप से पाई जाई जाती है। ऐसे में उन्हें अदरक और शहद का मिश्रण काफ़ी फ़ायदा पहुँचा सकता है क्योंकी ये पाचन क्रिया को सुदृढ़ बनाता है।

  • श्वसन से संबंधित समस्याओं का निदान

अदरक और शहद का मिश्रण हमारे फेफड़ों के लिए अत्यंत लाभकारी होता है। सर्दी और जुकाम के कारण गले, सीने और फेफड़ों में जमा होने वाला बलगम हमारे श्वसन तंत्र को प्रभावित करता है। ऐसे में इसका साफ़ होना काफ़ी ज़रूरी है।

यदि अदरक और शहद के मिश्रण के साथ काली मिर्च भी ली जाए तो ऐसे में इस समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है।

इतना ही नहीं अदरक, शहद और काली मिर्च को एक साथ मिलाकर सेवन करने से अस्थमा की समस्या से छुटकारा मिलता है।

  • कैंसर से बचाव

शोधों में इस बात को सिद्ध किया गया है कि अदरक और शहद का मिश्रण कैंसर से लड़ने में सक्षम होता है।

अदरक में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट गुण शरीर में कोशिकाओं की अनावश्यक वृद्धि को रोकते हैं। इस तरह कोशिकाएं एक निश्चित क्रम में ही बढ़कर  विभाजित होती हैं।

शहद कोशिकाओं पर लगे चेक पॉइंट्स को सही प्रकार से कार्य करने के लिए प्रेरित करता है। जब शहद और अदरक को एक साथ लिया जाता है तो ऐसे में कैंसर के चांसेस काफ़ी हद तक कम हो जाते हैं।

अदरक और शहद का सेवन कब करें?

आप हर रोज सुबह या शाम को खाली पेट शहद और अदरक का सेवन कर सकते हैं।

अदरक और शहद लेने से आपके पेट की सफाई होती है और आपकी त्वचा भी साफ़ होती है।

इसका सेवन करते समय यह भी ध्यान रहे कि आप अदरक का रस एक समय में एक चम्मच से ज्यादा ना लें।

ऐसा इसलिए है क्योंकि अदरक का रस ज्यादा मात्रा में लेने से पेट की दीवारों में संक्रमण हो सकता है। इसके साथ ही पेट में पाचन क्रिया भी गड़बड़ा सकती है।

loading...
=>

Related Articles