Main Sliderउत्तर प्रदेशलखनऊ

01 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था के लिए राज्य सरकार को उठाने होंगे अनेक कदम : मुख्यमंत्री

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज यहां कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा देश की अर्थव्यवस्था को वर्ष 2024 तक 05 ट्रिलियन डॉलर बनाये जाने का संकल्प लिया गया है। भारत सरकार ने 5 ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था के महत्वाकांक्षी लक्ष्य के सम्बन्ध में कई कदम उठाये हैं। प्रधानमंत्री के संकल्प को साकार करने में देश के सर्वाधिक जनसंख्या वाले राज्य उत्तर प्रदेश की महत्वपूर्ण भूमिका है। इसके दृष्टिगत राज्य सरकार ने निर्धारित समयावधि में प्रदेश की अर्थव्यवस्था को एक ट्रिलियन डॉलर बनाने का लक्ष्य रखा है।
मुख्यमंत्री ने यह विचार प्रदेश की अर्थव्यवस्था को एक ट्रिलियन डॉलर की बनाये जाने के सम्बन्ध में शुक्रवार को लोक भवन में आयोजित बैठक में व्यक्त किये। उन्होंने कहा कि प्रदेश की अर्थव्यवस्था को 01 ट्रिलियन डॉलर का बनाने का लक्ष्य प्राप्त करने के लिए राज्य सरकार को अनेक कदम उठाने होंगे। इसके लिए जहां एक ओर दीर्घकालिक नीतियां एवं सुदृढ़ आधारभूत संरचना बनाने की आवश्यकता है, वहीं प्रभावी सुशासन, तीव्र निर्णय लेने की प्रक्रिया और बेहतर उत्तरदायित्व के लिए संस्थात्मक पुनर्संरचना, लक्षित नीतियां एवं नियम भी बनाने होंगे। बैठक के दौरान राज्य की अर्थव्यवस्था को 01 ट्रिलियन डॉलर की बनाने के सम्बन्ध में 07 प्रतिष्ठित संस्थानों-आईआईएम लखनऊ, अर्नेस्ट एण्ड यंग, आईआईएम बंगलौर, ग्राण्ट थार्टन, आईआईएम अहमदाबाद, केपीएमजी तथा जापानी ग्रुप द्वारा अपने-अपने प्रस्तुतिकरण कर सुझाव दिये गये।
ज्ञातव्य है कि प्रदेश की अर्थव्यवस्था को एक ट्रिलियन डॉलर बनाये जाने के लिए 17 प्रतिष्ठित राष्ट्रीय व अन्तर्राष्ट्रीय संस्थानों से, उद्देश्य की प्राप्ति के लिए अपेक्षित रणनीति, कार्य योजना, आवश्यक वित्तीय व्यवस्था व अन्य तथ्यपरक सामग्रियों से युक्त अवधारणा नोट आमंत्रित किया गया। इसके क्रम में 07 संस्थानों द्वारा प्रस्ताव उपलब्ध कराये गये थे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि इन संस्थाओं से प्राप्त सुझावों के आधार पर राज्य को रणनीतिक बिन्दु प्राप्त हो जाएंगे, जिनके आधार पर प्रदेश सरकार द्वारा राज्य की अर्थव्यवस्था को 01 ट्रिलियन डॉलर बनाने के लक्ष्य की प्राप्ति के लिए एक रोडमैप तैयार कराया जाएगा। मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया कि वैश्विक परिदृश्य एवं डॉलर के मूल्यों में उतार-चढ़ाव के दृष्टिगत 5 वर्षों (2019-2024) में जीएसडीपी को लगभग 4 से 5 गुना करना चुनौतीपूर्ण कार्य है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा आधारभूत अवस्थापनाओं में सुधार के साथ-साथ पर्याप्त निवेश को आकर्षित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाये जाएंगे, जिससे कि राज्य सरकार का प्रदेश की अर्थव्यवस्था को 01 ट्रिलियन डॉलर बनाने का संकल्प साकार हो सके।
मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान में भारत की जीडीपी में उत्तर प्रदेश का अंश 8.3 प्रतिशत है। विगत ढाई वर्षों में वर्तमान राज्य सरकार के निरन्तर प्रयास से प्रदेश विकास एवं समृद्धि के पथ पर अग्रसर है। राज्य सरकार द्वारा किये गये प्रयास यथा यूपी इन्वेस्टर्स समिट-2018, बुनियादी ढांचे की विभिन्न परियोजनाओं की तीव्र प्रगति, यूपी इण्डस्ट्रियल डिफेंस कॉरिडोर, एक जनपद, एक उत्पाद, स्किल इण्डिया, स्टार्टअप इण्डिया आदि ने प्रदेश के आर्थिक विकास में उत्प्रेरक का कार्य किया है।
इस अवसर पर राज्य सरकार में मंत्री सुरेश खन्ना, सतीश महाना, सिद्धार्थ नाथ सिंह, जय प्रताप सिंह, आशुतोष टण्डन, श्रीकान्त शर्मा, डॉ0 महेन्द्र सिंह, राज्य के वित्तीय सलाहकार केवी राजू, रेरा के अध्यक्ष राजीव कुमार, प्रदेश के सूचना आयुक्त राजीव कपूर, अपर मुख्य सचिव वित्त संजीव कुमार मित्तल, अपर मुख्य सचिव नियोजन कुमार कमलेश, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त आलोक टण्डन, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एसपी गोयल, प्रमुख सचिव ऊर्जा आलोक कुमार, प्रमुख सचिव सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम तथा निर्यात प्रोत्साहन नवनीत सहगल, प्रमुख सचिव कृषि अमित मोहन प्रसाद, प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य देवेश चतुर्वेदी सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

loading...
=>

Related Articles