खेल

इन 2 बांग्लादेशी क्रिकेटरों पर लगा बैन, लड़ाई करना पड़ा महंगा

बांग्लादेशी क्रिकेटरों को एक घरेलू मैच के दाैरान मैदान पर आपस में लड़ाई करना महंगा पड़ गया है। शेख अबू नसर स्टेडियम में ढाका डिवीजन और खुलना डिवीजन के बीच मैच के दौरान शहादत हुसैन को अपनी टीम के ही आलराउंडर अराफात सनी जूनियर को पीटना महंगा पड़ा। शहादत हुसैन को मैच के दौरान टीम के साथी से मारपीट के कारण पांच साल के लिए प्रतिबंधित कर दिया, जिसमें दो साल की सजा निलंबित है। हमले का आरोप स्वीकार करने वाले शहादत पर तीन लाख टका (3540 डॉलर) का जुर्माना भी लगाया गया है। लेकिन इसके साथ बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड (बीसीबी) ने अराफात पर भी एक साल का बैन लगा दिया। साथ ही तेज गेंदबाज मोहम्मद शाहिद को भी 1 साल के लिए निलंबबित कर दिया गया।

बोर्ड के और जाँच से जुड़े एक अधिकारी ने बताया की शहादत हुसैन ने दो बार मैदान पर अराफात सनी जूनियर को बुलाया था, लेकिन वो उनकी बात सुन नहीं रहे थे। जिससे शहादत नाराज थे लेकिन इसी मौके पर शाहिद ने कहा की तुम अपने सीनियर की बात क्यों नहीं सुनते हो, जिसके बाद शहादत ने अराफात को पीट दिया। बीसीबी अधिकारी ने कहा, “अराफात ने टीम मैन की तरह काम नहीं किया। जब शाहदत ने उसे गेंद को चमकाने के लिए बुलाया तो वह ऐसा करने के लिए अनिच्छुक था और उसका व्यवहार टीम के एक वरिष्ठ सदस्य के प्रति उचित नहीं था।”

अप्रैल 2015 में पाकिस्तान के खिलाफ अपनी शुरुआत करने के बाद शाहिद ने बांग्लादेश के लिए पांच टेस्ट खेले हैं। वह उन मैचों में, वह 57.60 की औसत गेंदबाजी की औसत से केवल पांच विकेट ही ले सके। 2016 में, उन्होंने खुल्ना में जिम्बाब्वे के खिलाफ अपनी टी 20 की शुरुआत की और फिर टीम से बाहर हो गए। अराफात सनी जूनियर को अपना राष्ट्रीय पदार्पण करना बाकी है। उन्होंने केवल तीन प्रथम श्रेणी, 28 सूची ए और चार टी 20 खेले हैं। सजा पाने वालों में शहादत सबसे अनुभवी है, जिसने 2006 से 2015 तक 38 टेस्ट, 51 एकदिवसीय और छह टी-20 आई मैच खेले हैं, जिसमें उन्होंने 123 विकेट चटकाए।

loading...
=>

Related Articles