विचार मित्र

देश का बदलता मिजाज है हैदराबाद एनकाउंटर का स्वागत!

समझे देश के कर्णधार, बने कड़ा कानून तभी खत्म होंगे बलात्कार।

तारीख व पेशी ऊबे लोगों ने किया है पुलिस एनकाउंटर का स्वागत!

सचेत हो अन्यथा पुलिस के साथ अब जनता भी शुरू कर देगी वार?

कृष्ण कुमार द्विवेदी (राजू भैया)

 महिला चिकित्सक के हत्यारे वहशी दरिंदों को पुलिस ने एनकाउंटर के बाद मौत के घाट उतार दिया है। हैदराबाद पुलिस के इस एनकाउंटर का देश की जनता स्वागत कर रही है। जो कि कानून व्यवस्था की साख का विचारणीय पहलू है। हैदराबाद एनकाउंटर का स्वागत हिंदुस्तान का बदलता वह मिजाज है जिसके तहत जनता अब बलात्कारियों के लिए केवल मौत चाहती हैं! ऐसे में यदि देश के कर्णधार सचेत ना हुए तो आने वाले समय में स्थिति भयावह हो सकती है?

हैदराबाद पुलिस ने पशु महिला चिकित्सक रेप हत्याकांड के आरोपियों को आज एनकाउंटर में जैसे ही मारा और उसकी खबर आम हुई पूरे देश में खुशी की लहर दौड़ गई।जनता देश के हर कोने में पुलिस के इस एनकाउंटर से खुश थी। यह वही जनता है जो पुलिस के द्वारा किए गए किसी भी एनकाउंटर पर शक प्रदर्शित करती है। भले ही वह कुछ बोले या ना बोले। हैदराबाद के राष्ट्रीय मार्ग 44 पर रेप एवं मर्डर के चारों आरोपियों को उसी जगह पुलिस ने मारा जहां पर इन वहशी दरिंदों ने महिला डॉक्टर के साथ रेप किया था एवं बाद में आग से जला कर उनकी हत्या कर दी थी। इस घटना को लेकर पूरा देश आक्रोश में तप रहा था। लेकिन आज की खबर ने इस आक्रोष को राहत दे दी!

एनकाउंटर करने वाली हैदराबाद पुलिस के लिए देश के कोने-कोने से बधाई के संदेश दिए गए अथवा भेजे गए। तमाम महिलाओं ने हैदराबाद पुलिस पर पुष्प वर्षा की। पुलिस कर्मियों को मिठाई खिलाई। पुलिस के जिंदाबाद के नारे लगाए। यह सब एनकाउंटर के बाद होता रहा और पूरा देश इसे देखता रहा। इसी बीच कई वरिष्ठ जनों ने पुलिस एनकाउंटर पर सवाल भी उठाया ।जाहिर है कि अभी इस पूरे मामले की जांच होनी तय है। इसके साथ ही यह विचार भी आज यक्ष प्रश्न बना हुआ है कि ऐसा क्या है कि हैदराबाद एनकाउंटर का देश की जनता ने तहे दिल से खुल कर स्वागत किया है। यह बानगी इस बात का संकेत है कि देश की जनता का यह बदलता मिजाज है। जिसके तहत वह बलात्कारियों के लिए एक नए कानून को अघोषित रूप से बनाकर उस पर मुहर लगा चुकी है?

हैदराबाद रेप और मर्डर कांड में मृत महिला डॉक्टर की चिता की आग अभी ठंडी नहीं हुई थी कि उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में एक रेपिस्ट के द्वारा रेप पीड़िता को पेट्रोल छिड़ककर जला दिया गया। उक्त बलात्कारी अपराधी ने पीड़िता पर चाकू से वार किया और फिर वह मौके से फरार हो गया। आग से बुरी तरह जली रेप पीड़िता लगभग 1 किलोमीटर तक दौड़ी। तब लोगों को इसकी जानकारी हुई। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर उसे लखनऊ अस्पताल पहुंचाया। इसके बाद अब उसका इलाज दिल्ली के एक अस्पताल में चल रहा है। यूपी पुलिस ने पांचों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है लेकिन यह घटना भी यह दर्शाती है कि देश के बलात्कारियों में आज कानून का कोई डर नहीं रह गया है। उत्तर प्रदेश में टप्पल एवं संभल जैसी कई ऐसी बलात्कार की बड़ी घटनाएं हुई जिन्हें देखकर लगता है की बलात्कारी कानून के साथ खुलेआम बलात्कार करने पर उतावले हैं।

यूपी क्या देश के कई अन्य प्रदेशों में भी बलात्कार की घटनाएं आम है। हालात इतने बदतर हो चले हैं बलात्कारी बच्चियों तक को भी अपनी वासना का शिकार बनाने से नहीं चूकते। कटु सत्य यह भी है कि बलात्कार की घटना ज्यादातर या तो एक तरफा प्रेम की वजह से होती हैं या फिर दो तरफा प्रेम के कारणों से? कहीं-कहीं यह भी नजर आता है कि कई अपराधी बलात किसी नारी की अस्मिता का मर्दन करते हैं। ऐसी स्थिति में अपराधियों पर नकेल कसे जाने का कोई उदाहरण देश में ना प्रस्तुत होना भी बलात्कारियों के हौसलों को बढ़ा जाता है।

वासना के भूखे भेड़िए अपनी वासना पूर्ति के लिए निरीह अबलाओं की इज्जत को तार-तार करते हैं ।और फिर या तो ये जेलों में मौज करते हैं अथवा जमानत पर जेल से छूट कर बाहर! यही नहीं देखने में प्रायः यह भी आता है कि रेप अथवा छेड़खानी का जमानत पर छूटा हुआ अभियुक्त जेल से बाहर आने के बाद पीड़िता अथवा उसके परिजनों पर दबाव बनाता है । जब उसकी मंशा पूर्ण नहीं होती तब उन्नाव जैसी घटनाएं देश के सामने आ जाती है?

कई घटनाएं देश के सामने हैं। तो ऐसी भी तमाम घटनाएं हैं जो लोक लाज के डर से सामने ना आ सकी? या फिर पुलिस की अनदेखी की वजह से अपराधी मुकदमे में लाए न जा सके।
ऐसा बहुत दिनों की बात हुआ है जब पुलिस की सराहना जनता कर रही हो! हैदराबाद एनकाउंटर का स्वागत खुलकर करना यह देश की जनता के बदलते हुए मिजाज को दर्शाता है! भले ही केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने यह कहा हो की ऐसे तो कोई भी किसी को बंदूक उठा कर मार देगा! भले ही ओवैसी जैसे कई अन्य नेताओं ने इस पर अपनी राय रखी हो, जांच की बात की हो। लेकिन दूसरा जो पहलू है वह यह है कि कानून में ऐसी कौन सी खामियां थी जिसके चलते आज पुलिस के द्वारा किए गए एनकाउंटर का जनता स्वागत कर रही है? देश के कर्णधारो को इस पर गहनता से सोचना होगा, समझना होगा।आखिर देश की जनता बलात्कार जैसे संगीन अपराध के मामलों में चाहती क्या है!

देश की जनता आज अपनी नंगी आंखों से देख रही है कि निर्भया कांड के बलात्कारी जेल में बंद मौज कर रहे है? तमाम बलात्कारी जेलों में मौज कर रहे हैं तो कई फरार है।कई बार तो बलात्कारी कानूनी दांवपेच का सहारा लेकर छूट जाता है। फिर वह मनबढ़ बलात्कारी किसी दूसरी नारी की इज्जत को तार-तार करने के लिए सक्रिय रहता है! हैदराबाद एनकाउंटर की जांच होनी तय है? हमारे देश की राजनीति में भी सरकार का विरोध केवल विरोध के लिए होता है! कहीं सरकार विपक्ष के नेता के विरोध को दबाने के लिए उसका विरोध शुरु कर देती है! ऐसे में सबसे ज्यादा नुकसान जनता का होता है।

दुर्भाग्य है कि निर्भया कांड के बाद तमाम बलात्कार हुए लेकिन इन्हें रोकने के लिए हम कोई कड़ा कानून सामने न ला सके। दुर्भाग्य तो यह भी है कि आज ऐसे कई अपराधियों को फांसी पर चढ़ाने के लिए देश में जल्लादों की कमी है। देश की जनता देख रही है कि आज संस्कार भी बहुत पीछे चले गए है। फिल्मों एवं टीवी सीरियलों तथा विज्ञापनों में जो नंगापन परोसा जा रहा है वह भी बलात्कारियों की जमात को बढ़ाता जा रहा है । सोशल मीडिया अथवा मोबाइल पर जिस तरह से आज के बच्चे अथवा युवा गंदी फिल्म का दर्शन करते हैं उससे उनकी मानसिकता भी विकृत होती जाती है? यही नहीं कहीं न कहीं बिना सोचे समझे लिव इन रिलेशनशिप बनाना भी ऐसी घटनाओं को आगे बढ़ा रहा है !

हैदराबाद पुलिस एनकाउंटर की आम जनता सराहना कर रही है। पूर्व मंत्री उमा भारती, भाजपा के सांसद अनुपम खेर ,आम आदमी पार्टी के संजय सिंह सहित तमाम नेता है जिन्होंने इसका खैर मकदम किया है । स्पष्ट है कि देश कि सरकार को चेतना होगा और ताबड़तोड़ बलात्कारियों के लिए किसी कड़े कानून का प्रादुर्भाव करना होगा। अन्यथा हैदराबाद एनकाउंटर का एक दूसरा पहलू यह भी है कि देश की पुलिसिंग में इसका बेजा इस्तेमाल भी प्रारंभ हो जाएगा? एनकाउंटरो का एक ऐसा दौर प्रारंभ होगा जिसमें पुलिस की मनमानी की वजह से सरकारों की छवि खराब होगी? ऐसे में साफ है कि पुलिस एनकाउंटर का यदि आज स्वागत हो रहा है तो यह देश की जनता का बदलता हुआ मिजाज है! जिसमें वह चाहती है कि””””

बलात्कार एवं बलात्कारियों की खड़ी हो खाट।
और इन वहशी दरिंदों को उतारो मौत के घाट ?

loading...

Related Articles

WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com