कारोबार

जल्द डाकिये से खरीद सकेंगे इंश्योरेंस पॉलिसी, IRDAI ने जारी की गाइडलांइस

नई दिल्ली. अब जल्द ही डा​किये और ग्रामीण डाक सेवक  आपको इंश्योरेंस पॉलिसी  भी बेचेंगे. इश्योरेंस रेगुलेटरी भारतीय बीमा विनियामक और विकास प्राधिकिरण  ने डाक विभाग के पोस्टमैन और ग्रामीण डाक सेवक को प्वॉइंट ऑफ सेल्स पर्सन (इंश्योरेंस विक्रेता) नियुक्त करने के लिये गाइडलाइंस जारी की हैं.इनकी नियुक्ति इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक द्वारा की जाएगी. ये डाकिये और ग्रामीण डाक सेवक अधिकतर दूर दराज और ग्रामीण इलाकों में इंश्योरेंस बेचेंगे. इससे वित्तीय समावेश बढ़ेगा और साथ ही देश में इंश्योरेंस की सुविधा भी ज्यादा लोगों तक पहुंच पाएगी.

इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक (IPPB) एक कॉरपोरेट एजेंट है और वह प्वाइंट ऑफ सेल्सपर्सन की तरह काम करने के लिये डाकियों और ग्रामीण डाक सेवकों को प्रायोजित करने के संबंध में इरडा से अनुमति मांग सकता है. इरडा ने कहा कि अगर डाक भुगतान बैंक को अनुमति मिल जाती है तो वह प्वायंट ऑफ सेल्सपर्सन बनाये गये अपने व्यक्ति की भूल-चूक के लिये जिम्मेदार होगा

अथॉरिटी से अनुमति मिलने के बाद डाकियों और ग्रामीण डाक सेवकों की नियुक्ति को लेकर जिम्मेदारी IPPB की होगी. डाक विभाग डाकियों ओर ग्रामीण डाक सेवकों की सूची अथॉरिटी को समय-समय पर देता रहेगा. IPPB और डाक विभाग के बीच व्यवस्था की जानकारी अथॉरिटी को दी जाएगी. इसके अलावा IRDAI ने कहा है कि IPPB डाकियों ओर ग्रामीण डाक सेवकों द्वारा इंश्योरेंस बेचने के लिये कितनी भी बीमा कंपनियों के साथ जुड़ सकता है. IRDAI (रजिस्ट्रेशन ऑफ कॉरपेरेट एजेंट्स) रेगुलेशन 2015 के तहत इसकी इजाजत दी गई है.


इसके अलावा IPPB प्वॉइंट ऑफ सेल्स पर्सन के तौर पर डाकियों ओर ग्रामीण डाक सेवकों की नियुक्ति के लिये ट्रेनिंग ओर सर्टिफिकेशन के लिये जिम्मेदार होगा. रोजाना के ट्रांजैक्शन का रखरखाव भी IPPB देखेगा. कोड ऑफ कंडक्ट के पालन कराने की जिम्मेदारी भी IPPB की होगी.

इसके अलावा केवाईसी नियमों के पालन को वही सुनिश्चित करेगा. इसके अलावा IPPB को ग्राहकों की शिकायत के समाधान के लिये एक व्यवस्था तैयार करनी होगी. एक इंश्योरेंस पॉलिसी को बेचने वाले डाकिये और ग्रामीण डाक सेवक की पहचान के लिए व्यवस्था भी IPPB ही करेगा.

loading...

Related Articles

WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com