18+

आपको भी तो नहीं नींद में आपने पार्टनर को छूने की बीमारी, हो सकते है इस बीमारी से पीड़ित

कुछ लोग नींद में चलते हैं या फिर बातें करते हैं। ये तो आप जानते ही होंगे, पर क्या आप यह जानते हैं कि कुछ लोग नींद में सेक्स (Sleep Sex problem in men) करते हैं? चौंक तो नहीं गए आप? जी हां, यह सच है। यह कोई मिथक नहीं, बल्कि सेक्सुअल हेल्थ (Sexual health) से संबंधित एक रोग या फिर एक गंभीर समस्या है। इसे सेक्सोम्निया (Sexsomnia कहा जाता है। सेक्सोम्निया को स्लीप सेक्स (Sleep Sex) भी कहते हैं। इसमें व्यक्ति नींद में ही अपने पार्टनर के साथ सेक्स स्थापित (what is sleep sex) कर लेता है या फिर सेक्स का आनंद लेता है।

इसमें लोग नींद में सेक्स करते हैं और जब जागते हैं, तो उन्हें इसका आभास भी नहीं होता है। यह एक सेक्सुअल बिहेवियर (sexual behaviour in men) या स्लीप सेक्स डिसऑर्डर (sleep sex disorder) है। वर्ष 1996 में टोरंटो यूनिवर्सिटी के डॉ. कॉलिन शापिरो और डॉ. निक ने ओटावा यूनिवर्सिटी से डॉ. पॉल के साथ मिलकर कनाडा में इस डिसऑर्डर पर एक रिसर्च पेपर तैयार किया था। जब यह रिसर्च पेपर पब्लिश हुआ तो लोग या वकील रेप के आरोपियों को इस डिसऑर्डर का हवाला देकर अपने मुवक्किलों को बचाने की कोशिश में लग गए। इसके कई दुष्परिणाम आए और गलत फैसले भी लिए गए।

सक्सोम्निया के कारण

इसका मुख्य कारण क्या है, इसका पता ठीक से अब तक नहीं लग सका है। विशेषज्ञों का यह मानना है कि वे लोग जो नींद में बोलते या चलते हैं, उनमें सेक्सोम्निया के होने की संभावना अधिक रहती है। कई बार किसी अन्य मानसिक बीमारी या स्लीप डिसऑर्डर के कारण भी यह हो सकता है। इस समस्या के होने पर लोग नींद में अपनी पार्टनर को छूने, सहलाने व मास्टरबेशन (हस्तमैथुन) जैसी हरकतें करने लगता है। इस तरह का व्यवहार बार-बार किया जाए, तो पार्टनर को परेशानी होना लाजमी है। इसमें पीड़ित व्यक्ति अक्सर जबरदस्ती सेक्स संबंध बनाने की कोशिश करता है, जिससे उसका पार्टनर शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक रूप से असुरक्षित और भयभीत महसूस करने लगता है।

घेरने लगती हैं नकारात्मक भावनाएं

जिस व्यक्ति को भी सेक्सोम्निया की समस्या होती है, उसमें गुस्सा, कंफ्यूजन, डर, ग्लानि, घृणा, शर्म जैसी नकारात्मक भावनाएं घर करने लगती हैं। इससे कई बार शादीशुदा रिश्ते भी टूटने के कगार पर पहुंच जाते हैं। कई मामलों में यौन शोषण का भी आरोप लगने का डर रहता है। जो भी इस तरह की समस्या का सामना करते हैं, उन्हें किसी सेक्सोलॉजिस्ट से संपर्क जरूर करना चाहिए।

कुछ भी नहीं रहता याद

इस समस्या से परेशान लोग जब रात में नींद में सोते हुए सेक्स करते हैं, तो उत्तेजित हो जाते हैं। नींद में ही वे सेक्स भी करते हैं, लेकिन सुबह में जब उठते हैं, तो उन्हें कुछ भी याद नहीं रहता है। ऐसे लोगों का इलाज सही समय पर न हो, तो वे काफी हिंसक और खतरनाक हो सकते हैं। यह स्थिति खुद ब खुद नहीं जाती है। इससे आपकी रोजमर्रा की जिंदगी भी प्रभावित हो सकती है। आपके रिश्ते टूट सकते हैं।

सेक्सोम्निया से बचने के उपाय

1. यदि सुबह उठकर आपको कुछ ऐसा-वैसा महसूस होता है या आपका पार्टनर आपकी रात की नींद में की गई हरकतों के बारे में कुछ बताता है, तो उसे ध्यान से सुनें। गुस्सा न करें। अपने पार्टनर से इसके बारे में जरूर बात करें। आपका पार्टनर इस समस्या से जूझ रहा है, तो बिना देर किए सेक्सोलॉजिस्ट से मिलें।

2. शराब पीते हैं, नींद न आने की समस्या है या फिर तनाव के शिकार हैं, तो सबसे पहले इन आदतों से पीछा छुड़ाएं। इन चीजों की लिस्‍ट बनाएं और इनसे पीछा छुड़ाएं।

3. सेक्सोम्निया ऐसी चीज नहीं है, जिससे आपको बहुत ज्यादा डरने की जरूरत है। हां, बार-बार ऐसा होता है, तो डॉक्टर से जरूर मिलें। आपकी इस समस्या से आपका पार्टनर बेशक परेशान या चिंतित हो सकता है। आपको पार्टनर के साथ सेक्स करने में दिलचस्पी न हो तो आप कुछ दिन के लिए अलग-अलग बेड पर सो सकते हैं। ऐसा करने से रिश्ते को संभालने में आपको काफी मदद मिल सकती है।

loading...

Related Articles

WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com