बिहारभागलपुर

14 ,15 और 16 मार्च 2020 को होने वाले तीन दिवसीय अखिल भारतीय संतमत सत्संग का 109 वां वार्षिक महाधिवेशन कहलगांव में

प्राचीन काल से कहलगांव ऋषि मुनियों का तपोभूमि रहा, "कहलगांव का इतिहास" पुस्तक में आज भी मौजूद है विस्तृत वर्णन

आतिश दीपंकर

भागलपुर (तरुणमित्र) | जिले के कहलगांव में सतमत-सत्संग प्रेमी और समाजसेवी की आज
एक आवश्यक बैठक हुई। बैठक की अध्यक्षता अखिल भारतीय संतमत के महामंत्री डॉ परमानंद साह ने किया। दिनांक 14, 15 और 16 मार्च 2020 को होने वाले तीन दिवसीय अखिल भारतीय संतमत सत्संग का 109 वां वार्षिक महाधिवेशन कहलगाँव में होगा।

बैठक में निर्णय लिया गया कि, कहलगाँव में होने वाले 109 वें वार्षिक अधिवेशन को यादगार रूप में बनाया जाएगा। यूँ तो कहलगाँव उत्तरवाहिनी गंगा किनारे पावन स्थल पर अवगत है। प्राचीन काल में यहाँ ऋषि मुनियों का तपोभूमि रहा था। हालांकि इसका विस्तृत वर्णन “कहलगाँव का इतिहास” पुस्तक में आज भी मौजूद है। इस अधिवेशन से कहलगाँव की तपोभूमि पुनः संतमत महात्माओं की भूमी पुनर्जीवित होने की संभावना बताई रही है। इस कार्यक्रम में हजारों विद्वान, साधु-महात्मा और लाखों श्रद्धालुओं का देश-विदेश से आने की संभावना जताई जा रही है। कार्यक्रम के लिए बृहत मंच और वृहत पंडाल की व्यवस्था होगी। जिस पंडाल में श्रद्धालुओं को पढ़ने की भी व्यवस्था रहेगी। कार्यक्रम में आने वाले श्रद्धालुओं के लिए पेयजल, स्नान, शौचालय, लाइट, खाने की व्यवस्था भी रहेगी। इसके लिए हर डिपार्टमेंट में कमेटी का गठन किया जाएगा और एक प्रमुख कमेटी का भी गठन करने का निर्णय लिया गया।

सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि कमेटी में प्रधान, मुख्य संरक्षक, संरक्षक, उप संरक्षक, स्वागताध्यक्ष, कार्यकारी अध्यक्ष, उप स्वागताध्यक्ष, स्वागत मंत्री, उप स्वागत मंत्री, कोषाध्यक्ष, उप कोषाध्यक्ष, मीडिया प्रभारी, संगठन मंत्री, कार्यकारिणी, विशिष्ट सदस्य भी हैं। होंगे। साथ ही यह भी निर्णय लिया गया कि, प्रस्ताव की कौपी अनुमंडल पदाधिकारी कहलगांव को उपलब्ध कराया जाएगा ताकि उक्त कार्यक्रम में होने वाले भीड़ इत्यादि को लेकर विधि- व्यवस्था, यातायात आदि के लिए प्रशासन की ओर से भी सहयोग मिल सके। तीन दिवसीय अखिल भारतीय संतमत- सत्संग का 109 वां वार्षिक अधिवेशन में पहले दिन एक बेमिसाल शोभायात्रा का भी आयोजन किया जाएगा। शोभायात्रा में संतमत के प्रमुख आचार्य परम पूज्य स्वामी चतुरानंद जी महाराज के अलावे परम पूज्य स्वामी वेदानंद जी महाराज और परम पूज्य स्वामी योगानंद जी महाराज के साथ-साथ हजारों विद्वान महात्मा और लाखों देश-विदेश के श्रद्धालु भाग लेंगे।

बैठक में मुख्य रूप से राजेंद्र ममहतो, प्रवीण कुमार राणा, नरेश कुमार मंडल, सत गुना बाबा, संतोष कुमार गुप्ता, अर्जुन मंडल, शशिधर वेद, अरुण यादव, पवन कुमार भारती, दयानंद मंडल, संजीव कुमार, नरेश प्रसाद, जय कांत कापर, विश्वनाथ, राजकुमार शर्मा, ब्रह्मदेव प्रसाद सिंह, रविंद्र गुप्ता, उपेंद्र नारायण सिंह, परमानंद सिंह, परमानंद भगत, गजेंद्र कुमार वर्मा, राजकुमार मंडल, मणिकांत यादव, दिवाकर मंडल, जय कांत यादव, तुलसी मंडल, नीरज कुमार, रामवृक्ष मंडल, विनोद सिन्हा, प्रमोद यादव, भावनिदास, रामाकांत यादव, बॉसुकी नाथ यादव, के अलावे सैकड़ों सदस्यों ने उपस्थित हुए।

loading...
Loading...

Related Articles