धर्म - अध्यात्म

घर के वास्तुदोष को करना है दूर तो लगाएं इन पेड़-पौधों को

वास्तु दोष दूर करने के कई उपाय आपने सुने एवं देखे होंगे। घर में सुख समृद्धि बढ़ाने और वास्तु दोष को दूर करने के लिए लोग घर में तरह तरह की मूर्तियां यंत्र चित्र आदि लगाते हैं। किंतु यहां हम आपको पुण्य पेड़ पौधों के बारे में बता रहे हैं जिन्हें लगाने से न सिर्फ वास्तु दोष दूर होता है। बल्कि साथ ही घर का वातावरण भी शुद्ध होता है। घर में सुख शांति समृद्धि की वृद्धि होती है। कुछ पेड़ पौधों को घर में लगाना अशुभ माना जाता है तथा कुछ पेड़ पौधों को घर में लगाना शुभ माना जाता है यह है वह पेड़ पौधे जिन्हें घर में लगाना शुभ है। यहाँ हम आपको बता रहे हैं कि घर में इन पेड़-पौधों से दूर होता है वास्तुदोष। आप इन्हें अपनाकर अपने घर के वास्तु दोष का निवारण कर सकते हैं।

तुलसी का पौधा (tulsi plant)

इनमें सर्वप्रथम नाम तुलसी का ही आता है आज के समय में यह पवित्र पौधा लगभग हर घर में मिल जाता है। इसकी विशेषता यह है कि यह बहुत ही नाजुक पौधा होता है। इसका एक बच्चे की तरह ध्यान रखना पड़ता है अधिक धूप तथा अधिक सर्दी इसे सहन नहीं होती।

तुलसी का पौधा घर में विद्यमान सभी प्रकार की नकारात्मकताओं को समाप्त करता है। ऐसी मान्यता है कि जिस घर में तुलसी का पौधा होता है तथा जिस घर में तुलसी के पौधे की पूजा होती है। उस घर पर भगवान विष्णु की कृपा बनी रहती है।

वास्तु दोष दूर करने के लिए तुलसी के पौधे को हमेशा घर के पूर्वी भाग में लगाना चाहिए। घर के दक्षिणी भाग में इसे कभी ना लगाएं। रविवार को छोड़कर प्रतिदिन तुलसी के पौधे को जल देना चाहिए तथा तथा धूप दीप से इसकी पूजा करनी चाहिए। ऐसी मान्यता है कि जो व्यक्ति कच्चे दूध से तुलसी के पौधे को सींचता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।

आंवले का पौधा (amla plant)

आंवले के पौधे के विषय में भी यही माना जाता है कि इसमें माँ लक्ष्मी का निवास है। यह भगवान विष्णु को अति प्रिय है। अपने कई गुणों के कारण ही संस्कृत में आंवले को अमरफल कहा जाता है। इस पौधे को घर में उत्तर पूर्व दिशा में लगाना चाहिए। इससे घर के वास्तुदोष समाप्त होते हैं।

अश्वगंधा का पौधा (ashwagandha plant)

वास्तव में आयुर्वेदिक औषधियों में इस पौधे का विशेष स्थान है। यह न सिर्फ वास्तु दोष दूर करता है बल्कि रोगों को भी घर से दूर रखता है। घर में इन पेड़-पौधों से दूर होता है वास्तुदोष के सम्बन्ध में इस पौधे को बहुत ही लाभकारी माना गया है।

बेल का वृक्ष (vine tree)

भगवान शिव का प्रिय बेलपत्र जिसे शिवलिंग पर चढ़ाया जाता है इसे भी घर में लगाना शुभ माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि जहां यह पौधा होता है वहां लक्ष्मी का निवास होता है। इस पर जल चढ़ाने से पितरों की तृप्ति होती है। पितृ शांत होते हैं। इसलिए यदि आप पितृ दोष से ग्रस्त हैं तो आपके घर में इसका होना अच्छा फल देगा। इसकी सेवा से वंश वृद्धि भी होती है।

शमी का पौधा (shami plant)

इस पौधे को घर में रख कर इसकी सेवा करने से शनि दोष भी शांत होता हैं। इस वृक्ष के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाना चाहिए। यदि आप शनि साढ़ेसाती या शनि महादशा से पीड़ित हैं तो आपके लिए इस पौधे को लगाना एवं उसकी सेवा करना उचित है। ऐसे में शमी के पौधे की सेवा करें। धूप तथा सरसों के तेल के दीपक से इसकी पूजा करें तथा शुद्ध जल से सींचें। इस पौधे को घर के मुख्य द्वार के बहार लगाना चाहिए। दशहरे के दिन इसकी पूजा करने से धन धान्य की प्राप्ति होती है।

दोस्तों पेड़-पौधे हमारे मित्र एवं प्रक्रति के सरंक्षक हैं। यह हमको शारीरिक स्वास्थ्य प्रदान करते है। घर में इन पेड़-पौधों से दूर होता है वास्तुदोष के विषय में हमने आपको जो जानकारी दी है उसे अपनाएं। आप अपने अनुभव कमेन्ट बॉक्स में लिखकर हमें अवश्य बताएं।

loading...

Related Articles

WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com