बिहार

कहीं जमीन ने तो नहीं ले लीं सिनेमा हॉल मालिक की जान !

कहीं जमीन ने तो नहीं ले लीं सिनेमा हॉल मालिक की जान !

प्रख्यात चिकित्सक को हाल ही में दिया था करोड़ों की जमीन
>> एक्वायर जमीन को भी कब्जे में लें दूसरे को एग्रीमेंट करने की बात आ रहीं सामने
>> निर्भय सिंह द्वारा लेन-देन की बात ,हाल ही में पहुंची थीं थाना
>> परिजन ऐसी किसी बात से कर रहें है इंकार , पुलिस की कई गिरोह पर टिकी हैं निगाहें

>> जल्द गिरफ़्तार होंगे अपराधी – एसएसपी

रवीश कुमार मणि

पटना ( अ सं ) । राजधानी के औद्योगिक थाना क्षेत्र बिहटा में दिनदहाड़े अज्ञात अपराधियों द्वारा बीते शुक्रवार की सिनेमा हॉल मालिक निर्भय सिंह की हत्या ,जहां पुलिस और समाज दोनों के लिए रहस्य बना हुआ हैं वहीं कई नये चर्चाएं को भी जन्म दे रहीं हैं । निर्भय सिंह को इधर हाल के दिनों में अक्सर बिहटा थाने में देखें जाते थे। जब वह थाने पहुंचते थे उससे पहले राजधानी ,पटना के प्रख्यात महिला चिकित्सक का लड़का थाना परिसर में बैठे होते थे। एक- दो बार, निर्भय सिंह एवं महिला चिकित्सक पुत्र के बीच कहां ,सुनी भी हुई थीं । इसपर मौजूद पुलिस ने हस्तक्षेप कर दोनों को शांत कराया था। ऐसा बताया जा रहा हैं की निर्भय सिंह ने प्रख्यात महिला चिकित्सक के पुत्र को जमीन दिया था।यह जमीन करोड़ों में डील हुई थीं। बाद में चिकित्सक पुत्र को जानकारी मिली की खरीदी गयी जमीन एक्वायर में हैं । ऐसे ही और दो मामले सामने आ रहा हैं की चीनी मील की एक्वायर जमीन का कुछ हिस्सा निर्भय सिंह के कब्जे में था। निर्भय सिंह ने एक्वायर जमीन को कुछ लोगों के नाम एग्रीमेंट कराया था। खरीदार को यह बात मालूम हुआ कि जमीन एक्वायर की हैं तो रूपये लौटने एवं इसके एवज में दूसरे जमीन की मांग कर रहें थे। जिसको लेकर विवाद गहराया हुआ था ।हालाँकि इन बातों को मृतक निर्भय सिंह के परिजन मानने को कतई तैयार नहीं हैं और साफ तौर पर इंकार कर रहें हैं ।

भू -माफिया एवं रंगदारी में थे रोड़ा

बीते दस वर्षों में बिहटा का जो विकास हुआ शायद ही सूबे के किसी प्रखंड का हुआ होगा । बिहटा में आईआईटी ,इंजीनियरिंग कालेज, सीमेंट फैक्ट्री ,छड़ फैक्ट्री ,सहित कई सरकारी और निजी प्रतिष्ठान हैं ।सुविधाओं से सुशज्जीत बिहटा को मिनी ,पटना शहर भी कहां जाता हैं ।इसको लेकर आरा, अरवल, पालीगंज, बिक्रम, नौबतपुर, दुल्हिनबाजार एवं आसपास के लोग बिहटा में बसने का सपना पाले हुये हैं और हजारों परिवार ने घर बना लिया हैं । साथ ही जिवोपार्जन के लिए छोटे -मोटे कारोबार भी कर रखा था।
जानकारों का ऐसा मानना है की जहां विकास होता हैं वहाँ अपराधियों का भी सक्रियता बढ़ जाती हैं । बिहटा के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ हैं । बिहटा में जमीन की कीमत आसमान पर हैं ।इस कारण भू-माफिया पुरी तरह से सक्रिय हैं । गरीबों एवं लाचारों का गलत-सही जमीन पर कब्जा करने के लिए भू-माफिया ,अपराधियों का सहयोग लेते हैं या फिर विवादित जमीन में हिस्सेदार रखते हैं ।भू-माफिया और अपराधी ,दोनों मिलकर जमीन कब्जा करने को लेकर हत्या ,मारपीट जैसे घटना को अंजाम देते हैं ।
अपराधियों का कई गिरोह बिहटा में सक्रिय हैं और अब कारोबारियों से रंगदारी वसूली करने को लेकर आपस में जंग कर रहें हैं ।बिहटा में अपराधी गिरोह अपना-अपना वर्चस्व कायम करना चाहते हैं । इसको लेकर हत्याओं का दौर शुरू हैं । व्यवसायी संघ का अध्यक्ष होने के नाते निर्भय सिंह कारोबारियों के हित और सुरक्षा में खड़ा रहते थे। यहीं कारण हैं की निर्भय सिंह ,भू-माफिया और अपराधियों के लिए रोड़ा बनें हुये थे।

पुलिस ने निशाने पर कई अपराधी

सिनेमा हॉल मालिक निर्भय सिंह की हत्या को जिस तरह अंजाम दिया गया हैं ,उसके पीछे शार्प शुटर अपराधी हैं । चुकी अपराधियों का मंशा निर्भय सिंह की हत्या थीं ।यहीं कारण हैं की उनपर गोलियों का बौछार किया गया । हत्या के पीछे कौन हैं ,और क्या कारण रहा हैैं यह अपराधियों के पकड़े जानें के बाद ही खुलासा होगा । सुत्रों की मानें तो पुलिस बाइकर्स गैंग, महाकाल, नौबतपुर का दो कुख्यात अपराधी ,बेऊर जेल में बंद दो कुख्यात अपराधी, बिहटा एवं बिक्रम के दो अपराधी पुलिस के निशाने पर हैं ।और पुलिस हत्या के दिन और पहले के इनकी हर एक गतिविधियों की छानबीन कर रहीं हैं ।एसएसपी मनु महाराज ने दावा किया है घटना में शामिल अपराधी जल्द ही गिरफ़्तार होंगे ।

loading...
Loading...

Related Articles