उत्तर प्रदेशकानपुर

सिपाही की हालत स्थिर चिन्हित किये जा रहे है उपद्रवीय

अति संवेदनशील और संवेदनशील इलाको में फोर्स तैनात

कानपुर । नागरिकता संशोधन एक्ट के विरोध में शुक्रवार को बवाल के बाद पुलिस-प्रशासन बेहद सतर्क है। शनिवार की दोपहर बाद यतीमखाना चौराहा के पास अचानक फिर भीड़ जुटनी शुरू हुई तो पुलिस ने भी घेराबंदी करके आपत्ति जनक सामग्री के साथ पूर्व विधायक को हिरासत में लिया। कुछ देर बाद भीड़ उग्र हो गई और पथराव शुरू करने के साथ पुलिस चौकी में आग लगा दी। यतीमखाना पहुंचे एक काजी पर भी भीड़ ने पत्थर फेंके।  उपद्रवियों ने यतीमखाना चौकी के बाहर खड़ी दो बाइक व दो कारें फूंक दीं। एक सिपाही के कंधे में गोली लगी है, जबकि पथराव में एक दारोगा भी घायल हो गया था। पुलिस ने कड़ी सुरक्षा में मृतकों का पोस्टमार्टम कराने के बाद देर शाम स्वजनों को शव सौंप दिए। जहां पर देर रात भारी पुलिस बल के बीच सुपुर्द खाक कर दिया गया ।
वहीं रविवार को अति संवेदनशील और संवेनशील इलाकों में पुलिस बल के साथ ही आरएएफ की तैनाती रही शुक्रवार को यमीतखाने में शुरु हुए बवाल के बाद रविवार एसपी सिटी राजकुमार अग्रवाल ने बताया की उपद्रिव को चिन्हित किया जा रहा है साथ ही  माहौल बिगाड़ने वालो को बख्सा नही जायेगा
बताते चले की शनिवार की रात यतीमखाना पुलिस चौकी के पास ड्यूटी कर रहे सिपाही अर्पित सिंह को बवालियों ने गोली मार दी थी जिसे इलाज के लिए हैलट हास्पिटल में भर्ती कराया गया था रविवार को डाक्टरों ने बताया की सिपाही की हालत फिलहाल सही है पुलिस सूत्रो के मुताबिक उग्र प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए बैरकेटिंग लगा दी गयी है ताकि हालातो को काबू मे किया जा सकें
loading...
Loading...

Related Articles