अखिलेश के उपद्रवियों को सम्मान देने की बात पर भड़के डिप्टी सीएम , कहा- चल रहा तुष्टिकरण का 20-20 मैच

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने शुक्रवार को प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि सपा, बसपा और कांग्रेस में उपद्रवियों के तुष्टीकरण के लिए और असामाजिक तत्वों को बढ़ावा देने की प्रवृत्ति का एक अलग ही ट्वंटी-ट्वेंटी मैच चल रहा है. इनमें होड़ लगी हुई है कि कौन इसमें आगे निकले और कौन कितने अमर्यादित शब्दों का प्रयोग भाजपा और भगवा की विचारधारा के प्रति कर सके. डॉ दिनेश शर्मा ने कहा कि आज सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अपने वक्तव्य में नई-नई बातों का उल्लेख किया है तो उनके विधानसभा दल के नेता उनसे भी आगे निकल गए. उनका कहना है कि वे कई उपद्रवियों को सम्मान देंगे. समाजवादी नेताओं द्वारा पहले भी आतंकवादियों के मुकदमे वापस लेने का जो प्रयास किया गया था, उस पर न्यायालय ने हस्तक्षेप किया था और ऐसे खूंखार आतंकियों को सजा भी दी थी. यह उनकी कार्यशैली और आदत है.

ये भी पढ़ें: अमेठी सांसद स्मृति जुबिन ईरानी के सौजन्य से गरीबों में हजारों कंबलो का किया गया वितरण

डॉ दिनेश शर्मा ने कहा- तुष्टीकरण की सीमा पर कर गए हैं अखिलेश

डिप्टी सीएम ने कहा कि उनके दल के नेताओं का कहना है कि रोहिंग्या और बांग्लादेशी मुसलमानों को जाने नहीं देंगे. यहां दल का लालच इस कदर पहुंच गया है कि तुष्टिकरण की सीमा चरम पर है. यह तो भला हो कि बाबा साहेब भीमराव आम्बेडकर का संविधान बनाया है, जिसमें भारत की संप्रभुता भारत की संरक्षण की व्यवस्थाएं विद्यमान थीं. उन्होंने कहा कि लोकसभा और राज्यसभा में कानून बन जाता है, उसे सबको पालन करना चाहिए. यही व्यवस्था रहेगी.

ये भी पढ़ें: एयरपोर्ट पर अवैध पार्किंग का खेल जारी, प्रशासन ने साधी चुप्पी

पिछली सरकार में यूपी बन गया था दंगा प्रदेश

डॉ दिनेश शर्मा ने कहा कि भारत बदल रहा है, भारत सपेरों वाला देश नहीं है. अब भीख मांगते हुए लोगों को दुनिया में दिखाने का देश नहीं रहा. अब डिजिटल इंडिया का और नए जमाने का मोदी जी का देश है.अखिलेश पर पलटवार करते हुए डॉ दिनेश शर्मा ने कहा कि यह बदला हुआ उत्तर प्रदेश है, कुछ लोगों की नजरें बदली है और कुछ लोगों को दिखाई नहीं पड़ रहा कि यहां कितना विकास हुआ है. 400 दंगे पिछली सरकार में हुए थे. हमारी सरकार में एक भी दंगा नहीं हुआ. 265 पुलिसकर्मियों पर जो हमले हुए हैं उनकी तकलीफ में उन्हें नहीं दिखेगी. मेरठ में पुलिसकर्मियों को जिंदा जलाने का कार्य किया जा रहा था. ऐसे लोगों की सीसीटीवी फुटेज हैं, उन्हें आज ये लोग बचाने की बात कर रहे हैं. उनको यह लोग संविधान संरक्षक कह रहे हैं.

ये भी पढ़ें: मौसम का बदला मिजाज,ओलावृष्टि से फसलों को हुआ भारी नुकसान

कांग्रेस उपद्रवियों के साथ मिला रही कदम से कदम

उन्होंने कहा कि लोगों का भरोसा हमारी सरकार पर है. हमारी सरकार ने तेजी से हालात को सामान्य करने की जो व्यवस्था की है यह विपक्ष के लिए हताश करने के लिए है. कांग्रेस कहती है हम वकील देंगे और सपा कहती है हम सम्मान देंगे, पुरस्कार देंगे. पर आप क्या देंगे? आप जानें लेकिन आप संविधान के विरुद्ध जाने की प्रवृत्ति लोगों को दे रहे हैं. जिससे लोग भटकाव की राजनीति करेंगे और वैमनस्य पैदा होगा और पुलिस के खिलाफ आक्रोश पैदा होकर जो संपत्ति के खिलाफ नुकसान पहुंचाने वाले लोगों को समर्थन देने शुरुआत की गई मुख्यमंत्री जैसी मनसा हम संविधान की रक्षा भी करेंगे और लोगों की सुरक्षा भी करेंगे. और यह भी तय करेंगे कि एक भी निर्दोष पर कार्यवाही न होने पाए. इसके लिए हम जन जागरण करेंगे लोगों को जागरूक करेंगे.

loading...
Loading...

Check Also

दिल्ली में हिंसा के बाद अयोध्या में अलर्ट

अयोध्या। दिल्ली में नागरिकता संशोधन कानून को लेकर भड़की हिंसा के बाद अयोध्या में भी …