पटनाबिहार

बाहर में अपराध, जेल से जनप्रतिनिधि और फिर महात्मा !बेटी की शादी में अपील-हथियार लेकर नहीं आना

रवीश कुमार मणि
पटना ( अ सं ) । महात्मा गांधी का कथन -अपराधी नहीं ,अपराध से घृणा करनी चाहिए ,, ऐसा स्लोगन बिहार के सभी जेलों के दीवारों पर अंकित हैं । सरकार ने जेल के जगह सुधार गृह नाम दिया गया हैं । कैदियों में सुधार को लेकर कारा प्रशासन लगातार प्रयासरत है ,तकनीकी के साथ उच्च शिक्षा तक की सुविधाएं दिये जा रहा हैं । इसका सक्रात्मक असर तक देखने को मिल रहा हैं । ऐसा ही एक मामला की चर्चा राजधानी के अपराध जगत से लेकर राजनीति के गलियारें तक छाया हुआ हैं । कभी पटना पुलिस के रिकॉर्ड में बड़े अपराध के लिए पहचान रखने वाले कुख्यात ने अपराध के बल पर अकुत सम्पत्ति अर्जित कर दबंगता का डंका बजा कर रख दिया था और जब जेल गया तो जेल के अंदर से जनप्रतिनिधि बन उच्च सदन का शोभा बढ़ा सबको हैरान कर दिया । कभी कमर में पिस्तौल रखकर सबकुछ हासिल करने का जज्बा रखने वाला शख्स ने अपनी बेटी की शादी में शामिल होने वाले रिश्तेदारों ,मित्रों को दिये शादी के कार्ड पर सबसे ऊपर में लिखवाया हैं की:  आवश्यक सूचना ,हथियार लाना वर्जित हैं । जिसे भी शादी का कार्ड मिल रहा हैं उसके जुबान से यही निकल रहा हैं की रितलाल यादव महात्मा बन गये ?  क्योंकि ऐसा विचार किसी संत-महात्मा में ही आ सकता हैं । विधान पार्षद रितलाल यादव फिलहाल आदर्श केन्द्रीय कारा बेऊर में बंद हैं और उच्च सदन सत्र में भी वही से आना -जाना होता हैं और क्षेत्र की समस्याओं से सरकार को ध्यान आकृष्ट कराते हैं ।
    रीतलाल यादव की प्रथम पुत्री की शादी तैयारियां जोरों पर हैं ,सभी समस्त वैवाहिक कार्यक्रम विधान पार्षद के पैतृक गांव कोथवां में निर्धारित हैं । शादी कार्ड में दिये गये कार्यक्रम के अनुसार आगामी 2 फरवरी को मेंहदी एवं संगीत , अगले दिन यानी 3 फरवरी को हल्दी कलश और दूसरे दिन 4 फरवरी को बारात आगमन एवं रात्री में शुभ विवाद आयोजित हैं
             
     हिन्दू रीति रिवाज के अनुसार बेटी के शादी में पिता का होना अनिवार्य होता हैं । बेटी दान की परम्परा को पिता को निभाना पड़ता हैं । ऐसी सम्भावना हैं की बेटी की शादी के मद्देनजर कोर्ट ,रीतलाल यादव को शादी में शामिल होने के लिए अनुमति दे सकती हैं । इस तरह शादी के बहाने ही सही समर्थकों को लंबे समय बाद विधान पार्षद रीतलाल यादव का एक झलक देखने को मिल सकता हैं ।
loading...

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com