मध्य प्रदेशराष्ट्रीय

वृहद चैकिंग अभियान में पकड़ी 9 करोड़ से अधिक की बिजली चोरी :ऊर्जा मंत्री सिंह

लाइफ सर्टिफिकेट डिजिटलाइजेशन प्रक्रिया का शुभारंभ

भोपाल/ इंदौर//:18 जनवरी, ऊर्जा मंत्री प्रियव्रत सिंह ने पेंशनर्स सम्मेलन में मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी द्वारा पेंशनरों के लिए जरूरी लाइफ सर्टिफिकेट की डिजिटल प्रक्रिया का शुभारंभ किया। इस प्रक्रिया से पेंशनरों को अब बिजली दफ्तर जाने-आने से मुक्ति मिलेगी। पेंशनर आधार अथवा थम्ब मशीन की मदद से अपने घर से ही यह सुविधा पा सकेंगे। इससे वयोवृद्ध एवं बीमार पेंशनरों को सुविधा होगी।
ऊर्जा मंत्री ने कहा कि पेंशनरों को पुराने एरियर के भुगतान और बिजली बिल में छूट देने पर गंभीरता से विचार होगा। उन्होंने निर्देश दिये कि समय पर पेंशन भुगतान नहीं कर पा रहे बैंकों में पेंशन प्रकरण नहीं भेजें। ऊर्जा मंत्री ने पेंशनर्स, संगठन के पदाधिकारियों और उनके परिजनों को श्रेष्ठ उपलब्धियों के लिए सम्मानित किया।
पश्चिम क्षेत्र बिजली वितरण कंपनी मैनेजिंग डायरेक्टर विकास नरवाल ने बताया कि पश्चिम क्षेत्र बिजली वितरण कंपनी ने पेंशनरों के लिए प्रदेश में सबसे पहले डिजिटलाइजेशन का काम किया है। पेंशनरों को पेंशन पाने के लिए अब तक जीवित प्रमाण पेश करने लेखाधिकारी के समक्ष और डिविजन कार्यालय में उपस्थित होना पड़ता था। इससे बुजुर्गों और बीमार पेंशनरों को काफी परेशानी होती थी। मैनेजिंग डायरेक्टर ने बताया कि अब पेंशनर्स घर से ही यह प्रमाण पेश कर अगले एक साल तक पेंशन प्राप्त कर सकेंगे।
ऊर्जा मंत्री प्रियव्रत सिंह ने कहा कि प्रदेश में बिजली चोरी की रोकथाम और बिजली माफिया के खिलाफ वृहद अभियान चलाया जा रहा है। अभियान के अन्तर्गत चैकिंग टीमों का गठन किया गया है। ये टीमें तेजी से चैकिंग का काम कर रही हैं। भोपाल क्षेत्र के अधिकारी ग्वालियर क्षेत्र में और ग्वालियर क्षेत्र के अधिकारी भोपाल क्षेत्र में कार्यवाही कर रहे हैं। भोपाल, नर्मदापुरम, ग्वालियर एवं चंबल संभाग के अंतर्गत चलाये जा रहे वृहद चैकिंग अभियान में एक सप्ताह में 7 हजार 331 परिसरों की चैकिंग की गई। इस दौरान बिजली के अवैध और अनाधिकृत उपयोग के 2 हजार 530 मामले पकड़े गये जिनमें नौ करोड़ से अधिक राशि के बिल जारी किए गए।इन मामलों में जारी किये गये पूरक देयक की वसूली की कार्यवाही की जा रही है। पिछले एक सप्ताह में भोपाल क्षेत्र में 811 परिसरों में 1 करोड़ 84 लाख रूपये से अधिक की बिजली चोरी के मामले पकड़े गए। ग्वालियर चंबल क्षेत्र में 1 हजार 719 परिसरों में 7 करोड़ 93 लाख से अधिक रूपये की बिजली चोरी पकड़ी गई।

loading...
Loading...

Related Articles