बिहार

गांधी मैदान से निकली 708 किलोमीटर लंबी मानव शृंखला

पटना। जल जीवन और हरियाली, दहेज प्रथा उन्मूलन, बाल विवाह और नशामुक्त बिहार को लेकर बनायी गयी मानव शृंखला की शुरूआत गांधी मैदान से हुई। सीएम नीतीश कुमार ने बैलून उठाकर गांधी मैदान से मानव शृंखला की शुरूआत की। गांधी मैदान से चार शृंखलाएं निकली जो पटना जिले में 708 किलोमीटर तक गई। वैसे तो पटना प्रमंडल के छह जिलों में कुल 2750 किलोमीटर में मानव शृंखला बनाई गई।

पटना जिले में मेन रूट पर 167 किमी, सब रूट में 256 किमी एवं अन्य रूट पर 285 किमी में मानव शृंखला बनाई गई। मेन रूट राजेन्द्र पुल मोकामा से कोईलवर पुल बिहटा तक 167 किमी का था। इसके अलावा जैसे ही सुबह के 11.30 बजे, गांधी मैदान से चार शृंखलाएं निकाली गई। इसमें गेट नंबर एक से फ्रेजर रोड, डाकबंगला, बेली रोड, सगुना मोड, दानापुर केंद्र आरा गोलंबर, मनेर बिहटा होते हुए भोजपुर की सीमा तक गई। गेट नंबर सात से मानव शृंखला होते हुए अशोक राजपथ दीदारगंज, फतुहां, खुशरूपुर, बख्तियारपुर, अथमलगोला, बाढ, पंडारक, मोकामा होते हुए राजेंद्र पुल तक गया। गेट नंबर पांच से दीघा रोड होते हुए आरा गोलंबर दानापुर कैंट के समीप मेन रूट की मानव शृंखला बनाई गई। गेट नंबर 10 से एक्जीबिशन रोड फ्लाईओवर से कंकडबाग, पुराना बाइपास होते हुए जीरो माइल तक तथा वहां से महात्मा गांधी सेतु पीपा पुल वैशाली जिले की सीमा तक मानव श्रृंखला बनाई गई।

दो सौ मीटर से हुई वीडियोग्राफी
गांधी मैदान में मानव शृंखला कार्यक्रम की फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी के लिए दो ड्रोन इस्तेमाल किया गया। लगभग दो सौ मीटर ऊंचाई से वीडियोग्राफी कराई गई। ड्रोन संचालक का कहना था कि लगभग 20 मिनट तक हवा में ड्रोन विडियोग्राफी कर सकता है। जिला प्रशासन ने दो सौ मीटर ऊंचाई से अधिक ड्रोन को ले जाने की इजाजत नहीं दी थी। चारो ओर ड्रोन को घुमाकर फोटोग्राफी कराई गई। 11.45 बजे हेलीकेप्टर गांधी मैदान के ऊपर से निगरानी करते देखा गया। मैदान का दो चक्कर लगाया उसके बाद अशोक राजपथ की ओर निकल गया।

loading...
Loading...

Related Articles