उत्तर प्रदेशलखनऊ

स्क्रीनिंग में छोटे नहीं, बड़े अफसरों पर नजर, योगी ने दिये ये आश्वासन

लखनऊ। नई सरकार बनने के बाद से ही संवाद का इंतजार कर रहे और बातचीत न होने से भीतर ही भीतर उबल रहे राज्य कर्मचारियों को छह महीने बाद आज जब यह मौका मिला तो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से थोड़ी देर की वार्ता में ही छह महीने की बर्फ पिघल गई। कर्मचारियों के पास शिकायतें तो कई थीं और मांगों की फेहरिस्त भी लंबी थी लेकिन मुख्यमंत्री ने हर बात पर जवाब दिया और भरोसा दिलाया कि प्रदेश में विकास की गाड़ी जिन कर्मचारियों की बदौलत आगे बढऩी है, उनका किसी तरह भी अहित या उत्पीडऩ नहीं होने दिया जाएगा।


राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के अध्यक्ष हरिकिशोर तिवारी ने मुख्यमंत्री ने आश्वस्त किया कि स्क्रीनिंग में उनकी नजर छोटे नहीं, बड़े अधिकारियों पर है। किसी छोटे कर्मचारी पर अन्याय न होने देने के लिए मुख्यमंत्री ने इसकी व्यापक समीक्षा करने को कहा।इसी तरह उन्होंने फील्ड कर्मचारियों को मोटरसाइकिल भत्ता देने की मांग पर भी सहमति जताई।

इसके अलावा कैशलेस इलाज की सुविधा सहित अन्य बिंदुओं पर भी वार्ता के बाद परिषद के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री से मिले आश्वासनों पर संतोष जताया। कर्मचारी नेताओं ने कैशलेस इलाज के लिए तेजी से हेल्थ कार्ड बनवाने, आउट सोर्सिंग व संविदा व्यवस्था समाप्त कर सीधी भर्ती करने, पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू करने, एसीपी में बहुत अच्छा की बाध्यता समाप्त करने, रिक्त पदों पर भर्ती शुरू करने, विलंब से विनियमित हुए कर्मचारियों की पूर्व में की गई सेवाओं को जोड़कर लाभ देने, अभियान चला कर पदोन्नतियां करने तथा विभागीय विवाद प्रतितोष फोरम को क्रियाशील करने सहित अन्य मांगें भी मुख्यमंत्री के सामने रखीं।

मुख्यमंत्री ने हर मामले पर सरकार का रुख स्पष्ट करते हुए कर्मचारियों को आश्वस्त किया और लेखपालों को लैपटाप या स्मार्ट फोन देने और राजस्व निरीक्षकों के पद पर शत प्रतिशत पदोन्नति करने पर कैबिनेट बैठक में निर्णय कराने की बात कही।

loading...
Loading...

Related Articles