अंतरराष्ट्रीय

महाभियोग पर डोनाल्ड ट्रंप के पक्ष में दलीलें, तीन दिनों तक चली मैराथन बहस, 27 जनवरी से सुनवाई

नई दिल्ली। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के वकीलों ने सीनेट में  बचाव में तर्क पेश किया। व्हाइट हाउस और बचाव पक्ष के प्रमुख वकील पैट सिपोलोन ने सीनेटर से कहा कि डेमोक्रेट्स ने जो भी आरोप लगाए हैं उन्हें साबित करने के लिए कोई भी सुबूत मौजूद नहीं हैं। उन्होंने यह भी तर्क दिया कि चुनावी वर्ष में राष्ट्रपति को पद से हटाने के उनका प्रयास बहुत खतरनाक साबित होगा।

सत्तारूढ़ रिपब्लिकन पार्टी 100 सदस्यीय सीनेट में 47 के मुकाबले 53 मतों से बहुमत में है। वहीं, निम्न सदन हाउस ऑफ रिप्रजेंटेटिव में डेमोक्रेटिक पार्टी का बहुमत है। उन्होंने आरोप लगाया कि रिपब्लिकन नेतृत्व सुनवाई के दौरान उच्च सदन में पक्षपात करेगा। निम्न सदन के खुफिया मामलों की स्थायी प्रवर समिति के अध्यक्ष एडम शिफ ने कहा कि मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि निष्पक्ष सुनवाई हो, देश इसका हकदार है। उल्लेखनीय है कि अमेरिकी इतिहास में ट्रंप तीसरे राष्ट्रपति हैं, जिन्हें कांग्रेस ने औपचारिक रूप से आरोपित किया है।

डेमोक्रेट सदस्यों ने शुरुआती बहस पूरी की
अमेरिकी कांग्रेस के उच्च सदन सीनेट में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ चल रही महाभियोग की सुनवाई की शुरुआती बहस पूरी हो गई। डेमोक्रेटिक पार्टी ने उन पर पद का दुरुपयोग और कांग्रेस की कार्यवाही को बाधित करने का आरोप लगाया है। सदन में डेमोक्रेटिक पार्टी के प्रबंधकों ने निष्पक्ष सुनवाई के अनुरोध के साथ तीन दिनों में 24 घंटे तक मैराथन बहस की।

सोमवार (27 जनवरी) से सुनवाई
रविवार (26 जनवरी) को सीनेट का सत्र नहीं होगा। सोमवार और मंगलवार को ट्रंप के वकील सुनवाई के दौरान पक्ष रखेंगे। हालांकि ट्रंप के वकील जे सेकुलो ने कहा कि टीम ने अभी तक यह तय नहीं किया है कि वह अपने समय का कितना उपयोग करेगी।

सीनेट में गवाहों की पेशी
अगर सीनेट की मंजूरी मिलती है तो जनवरी के अंत या फरवरी के शुरुआती दिनों में डेमोक्रेट्स गवाहों को पेश करेंगे। गवाही से पहले सीनेट के सामने उनकी पेशी होगी।

loading...
Loading...

Related Articles

Back to top button