पटनाबिहार

एसपी लिपि सिंह ने पूर्व मंत्री नरेंद्र सिंह व बेटा सुमित सिंह के गिरफ्तारी के लिए गठित किया एसआईटी

फर्जीवाड़ा में सहयोग करने का आरोप, बाप-बेटा एक करोड़ में किये थे डील

सांसद का पीए बन नौकरी के नाम पर ठगी करने का आरोप, गिरोह के कई भेजे गये जेल
पटना ( अ सं ) । बिहार के दबंग विधायक अनंत सिंह को औकात दिखा जेल के सलाखों पीछे रखने को मजबूर कर देने वाली लेडी सिंघम नाम से विख्यात मुंगेर के एसपी लिपि सिंह के निशाने पर पूर्व मंत्री नरेंद्र सिंह और इनका पूर्व मंत्री बेटा सुमित सिंह आ गये हैं । फर्जीवाड़ा से जुड़े एक मामले में नरेंद्र सिंह व सुमित सिंह को गिरफ्तार करने के लिए मुंगेर एसपी लिपि सिंह ने एसआईटी गठित किया हैं । एसपी का दावा हैं की दोनों के खिलाफ पुलिस के पास पुख्ता सबूत हैं ,जिसके आधार पर गिरफ्तारी का आदेश दिया गया हैं ।
       मुंगेर सांसद ललन सिंह का फर्जी पीए कुणाल बनकर सरकारी गेस्ट हाउस में ठहरकर नौकरी के नाम पर ठगी का खेल चल रहा था। मामला प्रकाश में आने के बाद कोतवाली थाने में कांड संख्या 348 /19 ,दिनांक 14अगस्त 19 दर्ज किया गया था। पुलिस ने गिरोह के चार सदस्यों क्रमशः ब्रजेश कुमार उर्फ बमबम, गौतम कुमार ,मुकेश यादव व विजय कुमार सिंह को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया ।
        गिरफ्तार ब्रजेश कुमार उर्फ बमबम ने स्वीकृति बयान में यह बताया था की उसको पूर्व मंत्री नरेंद्र सिंह व उनका बेटा सुमित सिंह सहित कई और संरक्षण देते हैं । 5 करोड़ के एक भूखंड के डील में पूर्व मंत्री एवं उनका बेटा 1 करोड़ रूपये मध्यस्थता के लिए तय था। मोबाइल कॉल डिटेल में भी इसका पुख्ता सबूत पाया गया हैं ।
पुलिस अनुसंधान एवं प्रवेक्षण के बाद फर्जीवाड़ा में पूर्व मंत्री नरेंद्र सिंह एवं उनका बेटा सुमित सिंह के खिलाफ सबूत के आधार पर रविवार को मुंगेर की एसपी लिपि सिंह ने गिरफ्तारी का आदेश दिया हैं । दोनों की गिरफ्तारी के लिए एसआईटी गठित किया गया हैं ।
loading...
Loading...

Related Articles