Main Sliderकारोबार

बैंक यूनियनों का ऐलान, नहीं चेती सरकार तो उठायेंगे कड़े कदम

तीन दिवसीय बैंक हड़ताल की धमकी

लखनऊ. यूनाइटेड फोरम आफ बैंक यूनियंस के बैनर तले मंगलवार शाम बैंक आफ इंडिया जोनल आॅफिस गोमतीनगर में सैकड़ो बैंक कर्मियों ने पिछले तीन वर्षों से लम्बित वेतन समझौता न किये जाने के विरोध में प्रदर्शन और सभा की। सभा को सम्बोधित करते हुये दिलीप चौहान महासचिव आईबॉक ने बताया कि केन्द्र सरकार व आईबीए दो दिवसीय देशव्यापी हड़ताल के बाद अभी भी अपनी हठधर्मिता पर अड़ा हुए हैं। इसलिये मार्च 11 से 13 को हम तीन दिवसीय हड़ताल पर जायेंगे। इसके बाद भी मांगे पूरी न होने पर आगामी एक अप्रैल से अनिश्चितकालीन देशव्यापी हड़ताल किया जायेगा। एनसीबीई के प्रदेश महामंत्री केके सिंह ने कहा कि जब आरबीआई और नाबार्ड में पांच दिनी बैंकिंग है तो सारे बैंकों को पांच दिनी करने में क्या समस्या हो सकती है। यूएफबीयू के प्रांतीय संयोजक वाईके अरोड़ा ने कहा कि यह दुर्भाग्य की बात है कि भारतीय बैंक संघ व भारत सरकार वेतन समझौता, पेन्शन पुर्नरीक्षण आदि मुद्दों पर लगातार टरकाने का रवैया बनाये हुये है। फोरम के लखनऊ संयोजक अनिल श्रीवास्तव ने बताया कि पिछले दिनों एक प्रतिनिधि मंडल ने राज्यपाल से मिलकर प्रधानमंत्री को सम्बोधित एक ज्ञापन सौंपा था लेकिन अभी तक हमें कोई उत्तर पीएमओ से नहीं मिला है। प्रदर्शन को वीके सेंगर, पवन कुमार, आरएन शुक्ला, वीके सिंह, दीप बाजपेयी, दीपेन्द्रलाल, संदीप सिंह, डीपी वर्मा, मनमोहन दास आदि बैंक नेताओं ने भी संबोधित किया। सभा में बड़ी संख्या में महिला बैंककर्मी भी उपस्थित रही। सभा के अंत में मीडिया प्रभारी अनिल तिवारी ने बताया कि अब अगले चरणों में 17 फरवरी को काले बैज पहनना व प्रदर्शन, 20 व 26 फरवरी को प्रदर्शन, तीन मार्च को ाकैन्डिल लाइट प्रोटेस्ट आदि प्रदर्शन 11 से 13 मार्च के देशव्यापी हड़ताल के पूर्व किये जायेंगे।

loading...
Loading...

Related Articles

PHP Code Snippets Powered By : XYZScripts.com