Main Sliderउत्तर प्रदेशराष्ट्रीयलखनऊ

CBSE बोर्ड परीक्षा आज से शुरू, ये बातें हैं जरूरी

लखनऊ में 27 केंद्रों पर 31 हजार परीक्षार्थी देंगे बोर्ड परीक्षा

लखनऊ. केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की 10वीं और 12वीं की परीक्षा शनिवार से शुरू हो रही है। लखनऊ में भी 27 केंद्रों पर 31 हजार परीक्षार्थी सीबीएसई बोर्ड परीक्षा में सम्मिलित होंगे। जिनमें 15 हजार दसवीं और 16 हजार इंटर के स्‍टूडेंट्स हैं। इस बार बोर्ड ने नए नियम लागू किए हैं। इसके तहत परीक्षार्थियों पर कई तरह की पाबंदियां रहेंगी। ऐसे में परीक्षार्थियों को कई बातों का ध्यान रखना होगा। परीक्षार्थी इस बार हाथ घड़ी पहनकर भी नहीं जा सकेंगे। समय देखने के लिए हर परीक्षा केंद्र पर दीवार घड़ा लगाई जाएगी। इसके अलावा भी कई नए नियम लागू हुए हैं।

ये नियम हुए लागू

सीबीएसई बोर्ड ने परीक्षाओं को लेकर नए नियमों की जानकारी सभी केंद्राधीक्षकों को दी है और उसी के मुताबिक व्यवस्थाएं करने के निर्देश भी दे दिए हैं। नए नियमों के तहत परीक्षार्थियों के हाथ घड़ी पहनने पर पाबंदी रहेगी। अभी तक ये पाबंदी केवल प्रतियोगी परीक्षाओं में होती थी। लेकिन अब सीबीएसई बोर्ड परीक्षाओं में भी ये लागू होगी। इसके अलावा परीक्षार्थियों को परीक्षा शुरू होने के 10 मिनट पहले तक सेंटर में प्रवेश मिलेगा। वहीं परीक्षार्थी इस बार पारदर्शी मोजे पहनकर जा सकेंगे। केंद्र पर केवल एडमिट कार्ड और पेन लेकर ही परीक्षार्थी को प्रवेश मिलेगा। वहीं रोल नंबर आठ डिजिट का है, मगर उसमें सात स्‍कवायर हैं। रोल नंबर का सबसे पहला अंक स्‍कवायर से बाहर लिखना होगा। इसके बाद उस अंक के सामने सर्किल को डार्क करना होगा।

सेंटर्स की हुई जियो टैगिंग

बोर्ड से मिली जानकारी के मुताबिक परीक्षार्थियों की सुविधा के लिए सभी परीक्षा सेंटरों को जीओ मैपिंग से टैग किया गया है। इससे परीक्षार्थियों को परीक्षा केंद्र ढूंढने में आसानी होगी। एडमिट कार्ड (प्रवेश पत्र) में लिखे परीक्षा केंद्र का नाम जीओ मैपिंग में डालते ही उसका रास्ता परीक्षार्थियों को पता चल जाएगा। ये सुविधा परीक्षार्थियों के लिए काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि अक्सर सेंटर तलाशने में बच्चे देरी से सेंटरों तक पहुंचते थे।

सभी केंद्र जुड़े ऑनलाइन

सीबीएसई बोर्ड ने इस बार एक नई व्यवस्था लागू की है। सभी परीक्षा केंद्रों के अध्यक्षों के मोबाइल को जीरो मैपिंग से जोड़ा जाएगा। इसके जरिए बोर्ड के निर्देश उनतक पहुंच सकेंगे। हालांकि जीरो मैपिंग का ये काम परीक्षा शुरू होने के 2 घंटे पहले होगा। इसके बाद सारे परीक्षा केंद्र बोर्ड हेड क्वार्टर से ऑनलाइन जुड़ जाएंगे। इसके जरिए सभी केंद्र अध्यक्ष बोर्ड को परीक्षा संबंधी जानकारियां साझा करेंगे। इसके तहत वे बोर्ड को बताएंगे कि कितने बजे प्रश्न पत्र खोले गए और बच्चों को उत्तरपुस्तिका कितने बजे दी गई। इस तरह की तमाम जरुरी जानकारियां बोर्ड तक ऑनलाइन ही पहुंचेगी। इसके अलावा केंद्र अध्यक्ष अपनी परेशानियों को इसी के जरिए बोर्ड हैडक्वार्टर से साझा करेंगे और बोर्ड द्वारा तुरंत इसका निराकरण किया जाएगा।

loading...
Loading...

Related Articles