पटनाबिहार

बिहार में आज से शुरू मैट्रिक परीक्षा, कुल 15 लाख 29 हजार 393 परीक्षार्थी शामिल

पटना।  राज्य भर के शिक्षकों के हड़ताल के बीच सोमवार से बिहार बोर्ड के मैट्रिक परीक्षा शुरू होगा। कदाचार मुक्त परीक्षा संचालित हो, इसके लिए बिहार बोर्ड ने नियमित शिक्षक और अनुदानित कॉलेज और स्कूलों के शिक्षकों को वीक्षक के लिए नियुक्त किया हैं। मैट्रिक परीक्षा 17 से 24 फरवरी तक चलेगा। परीक्षा के पहले दिन विज्ञान विषय की परीक्षा ली जायेगी। कुल 15 लाख 29 हजार 393 परीक्षार्थी शामिल होंगे। इसके लिए 1368 परीक्षा केंद्र बनाया गया हैं।

बोर्ड की मानें तो परीक्षार्थी की संख्या अधिक होने के कारण दो पाली में परीक्षार्थी को बांटा गया हैं। प्रथम पाली में सात लाख 74 लाख 415 और द्वितीय पाली में सात लाख 54 हजार 978 परीक्षार्थी शामिल होंगे। प्रथम पाली 9.30 से 12.15 और दूसरी पाली दोपहर 1.45 से 4.30 बजे तक ली जायेगी। परीक्षार्थियों को प्रथम पाली में 9.20 और दूसरी पाली में 1.35 तक अंतिम प्रवेश मिलेगा। इसके बाद किसी भी परीक्षार्थी को प्रवेश नहीं दिया जायेगा। परीक्षार्थी जूता-मोजा पहन कर नहीं आयें। क्योंकि जो जूता मोजा में आयेंगे तो उन्हे जूता और मोजा उतारना पड़ेगा। परीक्षा केंद्र में एडमिट कार्ड और पेन के अलावा कुछ भी नहीं ले जाने दिया जायेगा।

प्रश्न पत्र पढ़ने को मिलेगा 15 मिनट 
परीक्षा के दौरान निर्देश का पालन करने की हिदायत बोर्ड ने दी हैं। परीक्षार्थी को प्रश्न पत्र पढ़ने और निर्देश को समझने के लिए 15 मिनट का अतिरिक्त समय दिया जाता हैं। उत्तर पुस्तिका के बायां और दायें भाग को ही परीक्षार्थी को भरना हैं। बायें भाग में क्रम संख्या एक से चार तक और दायें भाग में क्रम संख्या नौ से 13 तक परीक्षार्थियों को भरना हैं। उत्तर पुस्तिका के बीच वाले या मध्य भाग परीक्षार्थी को नहीं भरना हैं। बोर्ड की मानें तो अगर कोई परीक्षार्थी बीच वाले भाग के साथ किसी तरह की छेड़छाड़ करेगे तो उनके उस विषय का परीक्षाफल रद्द कर दिया जायेगा।

कॉपी के साथ छेड़छाड़ करेंगे रूक सकता है रिजल्ट 
बोर्ड ने विज्ञप्ति जारी कर परीक्षार्थियों को उत्तर पुस्तिका के अंदर छेड़छाड़ करने से मना किया हैं। इस बार उत्तर लिखने के बायें और दायें दोनों तरफ जगह छोड़ा हुआ हें। बायें तरफ के चौथाई में छात्र अपने प्रश्न की क्रम संख्या लिखेंगे वहीं दायीं तरफ के छोड़े गये हिस्से में कुछ नहीं लिखेंगे। क्योकि यह जगह परीक्षकों के द्वारा दिये गये अंक के लिए निर्धारित की गयी हैं। इस हिस्से मे अगर कुछ लिखा जायेगा तो ऐसे परीक्षार्थी का परीक्षाफल अमान्य कर दिया जायेगा।

परीक्षार्थी इन बातों का परीक्षा हॉल में रखें ध्यान 
– उत्तर पुस्तिका मिलने के बाद एडमिट कार्ड में दिये गये विवरण का मिलान कर ले
– उत्तरपुस्तिका के प्रथम पृष्ठ के बायीं भाग में परीक्षार्थी को केवल विषय का नाम और उत्तर देने वाले भाषा का नाम लिखना हैं।
– उत्तर पुस्तिका के प्रथम पृष्ठ के दायें भाग में केवल प्रश्न पत्र के सेट कोड को दिये गये बाक्स में लिखें
– उत्तर पुस्तिका के क्रम वाइज पेज की गिनती जरूर करें।
–  उत्तर पुस्तिका के अन्य जगहों पर अपना रौल नंबर, रौल कोड, नाम, स्कूल का नाम और परीक्षा का स्थान ना लिखें
– कॉपी के पृष्ठों का ना मोड़े, ना फाड़ें
– प्रश्न पत्र में दी गयी संख्या के अनुसार उत्तरों की संख्या में लिखें
– ओएमआर उत्रक पत्रक में परीक्षार्थी अपने प्रश्न पत्र के सेट कोड को लिखेंगे और साथ मे काला या नीले बॉल पेन से उसे भरेंगे। साथ में परीक्षा केंद्र का नाम भी भरेंगे

loading...
Loading...

Related Articles