धर्म - अध्यात्मलखनऊ

भोले के जयघोष से गूंजी लक्ष्मण नगरी, तेज हवायें, बूंदाबादी…पर नहीं डिगे इनके!

 

तड़के होने के साथ ही मंदिरों के आगे दिखी भक्तों की लम्बी कतार

लखनऊ। भक्तों की लम्बी कतारें, भोले बाबा की जय, जयघोष का गगनचुंबी नारा, जगह-जगह लगे भण्डारे और प्रसाद वितरण और अगाध श्रद्धाभक्ति व पूर्ण आनंद के साथ शुक्रवार को राजधानी लखनऊ में महाशिवरात्रि का पर्व मना। हालांकि तड़के सवेरे से अचानक मौसम में बदलाव देखने को मिला और आसमान से बूंदाबादी व तेज हवायें भी चलनी शुरू हो गई। लेकिन इसके बावजूद राजधानी में शिव भक्त नहीं डगमगाये और पूरी तन्मयता के साथ शिवरात्रि का उत्सव अपने परिवारीजनों संग मनाया। पर्व की तैयारी को लेकर एक दिन पहले से ही शहर के शिव मंदिरों की साज-सज्जा कर दी गई थी। डालीगंज स्थित सुप्रसिद्ध शिव स्थान मनकामेश्वर महादेव मंदिर में तो सूर्य के निकलने से काफी पहले भोर से ही मंदिर के आगे तक भक्तों ने लम्बी लाइन लगा रखी थी। भक्तों की भारी भीड़ को ध्यान में रखते हुए पुलिस प्रशासन ने भी सुरक्षा के चाक-चौबंद इंतजाम कर रखे थे। फूल-मालाओं व पूजन साम्रगी की दुकानों पर भी आज आम दिनों की अपेक्षा कहीं अधिक खरीददार दिखे। हालांकि घोषित अवकाश होने की वजह से कई सरकारी कार्यालय व विभाग बंद रहें, मगर इसी बीच यूपी रोडवेज मुख्यालय पर स्थापित प्राचीन शिव मंदिर स्थल पर भक्तों ने बीते दो दशक से पूजन-अर्चन की चली आ रही परंपरा को कायम रखा और हषोल्लास के साथ शिवरात्रि पर्व मनाया।

सुबह से शाम…शिव बारात के नाम
लखनऊ। शिव रात्रि का पर्व हो और शिव बारात न निकले, ऐसा शिव भक्तों के लिये संभव नहीं है। राजधानी में तो आलम यह रहा कि शुक्रवार सुबह से लेकर देर शाम तक अलग-अलग इलाकों, गली-मोहल्लों, चौक-चौराहों व कॉलोनियों में भी लोगों ने अपने-अपने ढंग से पूरे धूमधाम के साथ शिव बारात निकाली। अलीगंज स्थित पुराने हनुमान मंदिर से पूरी भव्यता के साथ शिव बारात निकली। इसके अलावा चौक व पुराने लखनऊ के कई क्षेत्रों में भी परंपरागत तौर-तरीके से भक्तों ने शिव बारात निकाली और गाजे-बाजे, रथ आदि के साथ शिव भक्ति में डूबे दिखायी दिये। यही नहीं देर शाम हजरतगंज के नरही से भी भक्तों की एक टोली ने शिव बारात निकली। ऐसे में भगवान शिव के प्रतीक के रूप में एक युवक नंदी स्वरूप एक सजे हुए बैल की पीठ पर बैठे हुए थे और वहां से गुजरने वाले हर एक शिव भक्त को आशीवार्द देते चले गये।

loading...
Loading...

Related Articles