पटनाबिहार

कन्हैया कुमार [Kanhaiya Kumar] : धार्मिक और कट्टर [Religious and fanatical] होने के बीच है बहुत बड़ा अंतर

पटना . भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी [Communist Party of India] के नेता कन्हैया कुमार [Kanhaiya Kumar] ने एआईएमआईएम के नेता वारिस पठान [AIMIM leader Waris Pathan] के 15 करोड़ मुसलमानों के 100 करोड़ पर भारी होने संबंधी बयान को गलत बताया है. उन्होंने कहा कि धार्मिक और कट्टर होने के बीच अंतर हैं. बता दें ‎कि जेएनयू के पूर्व छात्र नेता ने सीएए-एनपीआर-एनआरसी के खिलाफ राज्यव्यापी जन गण मन यात्रा के दौरान पठान के बयान और बेंगलुरु में एआईएमआईएम की एक रैली में एक युवती द्वारा लगाए गये ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे के संबंध में पूछे था. ‎जिसमें उन्होंने प्रश्नों का उत्तर देते हुए यह बात कही.

हालां‎कि कन्हैया 2016 में उनके खिलाफ राजद्रोह का आरोप लगने के बाद सुर्खियों में आए थे. उन्होंने कहा ‎कि ऐसा लगता है कि किसी बलि के बकरे की आवश्यकता हमेशा होती है. चार साल पहले बलि का बकरा मैं था, जब सोशल मीडिया समेत हर जगह मुझे अपशब्द कहे जा रहे थे. अब, मैं पुराना हो चुका हूं इसलिए नफरत करने के लिए नई चीजें खोज ली गई हैं. हालांकि उन्होंने कहा कि वह धर्म के नाम पर लोगों को भड़काने की हर कोशिश का विरोध करते हैं. कुमार ने कहा ‎कि ‘यह समझने की आवश्यकता है कि धार्मिक होने और कट्टर होने एवं नफरत को सही ठहराने के लिए किसी की आस्था का इस्तेमाल करने के बीच अंतर है.’

loading...
Loading...

Related Articles