लाइफ स्टाइल

मन हो जब निराश तो करें ये काम, खूद होगा बदलाव

अक्सर हमें छोटी-छोटी बातें बहुत ज्यादा निराश कर देती हैं। जिससे हम उदास रहने लगते हैं। लेकिन इसका ये मतलब बिलकुल भी नहीं है कि इस बात को सोच कर एक व्यक्ति को निराशावादी होना चाहिए। मतलब कि कोई भी व्यक्ति हमेशा पॉज़िटिव नहीं रह सकता है, पर वो ज़्यादातर समय पॉज़िटिव रह सकता है।

रोज़ाना किताब पढ़ने की आदत डालें
रोज़ाना किताब पढ़ना आपके दिमाग़ और विचारों को खोलने में मदद करेगा। एक दिन में अपनी पसंद की किताब के 15-20 पन्नो को पढ़ना आपकी चीज़ों को देखने की सोच और सोच को बदल देगा।

रोज़ाना मेडिटेशन करना चाहिए
मेडिटेशन आपके दिमाग़ से नकारात्मक विचारों को बाहर निकालने में मदद करता है। डेली मेडिटेशन करने से आपके दिमाग़ की शक्ति और सोच में बदलाव होता है। मेडिटेशन एक ऐसी चीज है,जिसकी शुरुआत 10 मिनट से करनी चाहिए और धीरे-धीरे इस समय को 30 मिनट तक बढ़ा देना चाहिए। ये आपको स्ट्रेसफ्री रहने में भी मदद करता है।

अपना कमरा कुछ इस तरह सजाएं
अपने फ़ेवरेट लेखक, व्यक्ति, नेता या अपने पेरेंट्स के प्रेरणादायक कोट्स और पोस्टर्स अपने कमरे में लगाएं। इससे आपको निराशा के पलों में सकारात्मक विचार और ऊर्जा मिलेगी। अगर पूरे कमरे में नहीं कर सकते तो कमरे के एक कोने या टेबल को भी आप इस तरह से सजा सकते हैं।

loading...
Loading...

Related Articles