उरई

बारिश के साथ ओलो ने किसानों के सपनो पर फेरा पानी

उरई। शनिवार को सुबह से छाये बादलो ने रात के समय अचानक अपना रूख बदल लिया और तेज हवाओ के साथ बारिश एवं ओलावृष्टि होने लगी। जिसके कारण फसल मे भारी नुकसान देखने को मिला। जनपद के माधौगढ क्षेत्र के किसानो ने बताया कि ओले गिरने से खेतो मे खडी मटर, मसूर, चना, लाही, गेहूं के अलावा अन्य फसलो मे भारी नुकसान देखने को मिला है। उन्होने कहा कि वैसे ही किसान अन्ना मवेशियो के संकट से जूझ रहा था लेकिन शनिवार को हुई अचानक ओलावृष्टि व बारिश के कारण किसानो की उम्मीदो पर पानी फिरता दिखाई दिया। ओलावृष्टि को लेकर किसान चिन्तित नजर आया।
बताते चले कि जनपद मे अन्नदाता की हालत दिनो दिन बिगडती जा रही है। विगत दिनो ओलावृष्टि के कारण कोंच क्षेत्र मे किसानो की फसल का भारी नुकसान देखने को मिला था वैसा ही नजारा शनिवार की रात को देखने को मिला। ओलावृष्टि के कारण किसान बर्बाद होता नजर आया। कडी मेहनत से बोई गई मटर, मसूर, चना, गेहूं की फसल ओला गिरने से काफी हद तक खराब हो गई है। बीते महीनो हुई बारिश व ओलावृष्टि के कारण किसानो की अधिकांश फसले नष्ट हो गई थी। जिन्हे कई किसानो ने दोबारा बडी मेहनत कर बोई थी। उन अन्नदाताओ के अनुमान पर कुदरत ने कहर ढाते हुए फसलो को नष्ट कर दिया। माधौगढ क्षेत्र के ग्राम बिरिया सिहारी, सिरसादोगढी, मिर्जापुर सहित दर्जनो गांवो मे ओलावृष्टि होने के कारण लगभग सभी फसले क्षतिग्रस्त हो गई है। वहां के स्थानीय अन्नदाताओ मे राज बहादुर सिंह, जय प्रसाद, अजय सिंह, बबलू सिंह, अरभूषण सिंह, राजकुमार सहित अनेक किसानो ने बताया कि जनपद का किसान निंरतर कई वर्षो से अतिवर्षा, ओलावृष्टि व सूखा पडने से कई वर्षो से किसान गुजरता आ रहा है। जिससे यहां के किसानो की हालत यह है कि उसे अपना भरण पोषण करना मुश्किल हो रहा है। इसके बाद भी अन्नदाताओ को दैवीय आपदाओ से जूझना पड रहा है। शनिवार की रात हुई ओलावृष्टि के कारण अधिकांश गांव ओले की चपेट मे आ गए है जिसके कारण किसानो की फसले क्षतिग्रस्त हो गई है। ओलो ने किसानो की बची हुई उम्मीदो पर भी पानी फेर दिया है।
फोटो न0 1 जेपीजी उरई

बर्बादी की देहलीज पर पहुंच गया किसान
उरई। माधौगढ क्षेत्र के किसान राजबहादुर सिंह, जयप्रताप सिंह, अजय सिंह, बबलू सिंह आदि ने बताया कि वैसे भी जनपद का किसान दैवीय आपदा से अभी तक ठीक ढंग से नही उबर पाया था कि शनिवार की रात को बारिश के साथ गिरे ओलो ने मानो एक तरफ से अन्नदाताओ को बर्बादी के कगार पर लाकर खडा कर दिया गया है। जिसको लेकर किसानो को शाहूकारो व बैंक से लिए गए कर्ज की चिन्ता सताने लगी है साथ ही बेटिओ व बेटो की शादी को लेकर किसान चिन्तित दिखाई देने लगे है।

ओलो ने किसानो के अरमानों पर फेरा पानी
उरई। शनिवार को हुई बारिश व ओलावृष्टि के कारण किसान तबाह हो गया है। बारिश व ओलावृष्टि का असर माधौगढ क्षेत्र सहित जनपद के अन्य स्थानो पर देखने को मिला है। माधौगढ क्षेत्र के बिरिया, सिहारी, सिरसादोगढी, मिर्जापुर के अलावा आस पास के दर्जनो ऐसे गंाव है जहां पर बारिश के साथ ओले गिरे। ओलो की वजह से खेतो मे बोई गई फसल मटर, मसूर, चना, गेहू की फसल बिछ सी गई है।

loading...
Loading...

Related Articles

Back to top button