Main Sliderदिल्ली

Demonstration on citizenship law: उत्तर-पूर्वी दिल्ली में दंगा प्रभावित क्षेत्रों से जली हुईं 424 कार और 32 छोटे वाहन जब्त, करीब 700 मुकदमे दर्ज, 2400 लोग पकड़े गए

नई दिल्ली। उत्तर-पूर्वी दिल्ली में नागरिकता कानून पर प्रदर्शन के दौरान दो गुटों में हिंसक झड़प के बाद हुए सांप्रदायिक दंगे के सिलसिले में करीब 700 मुकदमें दर्ज किए हैं और करीब 2,400 लोगों को पकड़ा गया है।

पुलिस ने बताया कि उत्तरपूर्वी दिल्ली में पिछले महीने हुई हिंसा के संबंध में 2,387 लोगों को या तो हिरासत में लिया गया है या गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि अबतक 702 मामले दर्ज किए गए हैं। पुलिस के अनुसार 49 मुकदमे सशस्त्र कानून के तहत दर्ज किए गए हैं। उन्होंने बताया कि उत्तरपूर्वी दिल्ली के हिंसाग्रस्त इलाकों में अमन समिति के साथ 283 बैठकें की गई हैं।

उत्तर-पूर्व दिल्ली के दंगा प्रभावित क्षेत्रों से सात लाख किलो ईंट, पत्थर और रोड़े एकत्रित किए गए हैं। निगम इनका इस्तेमाल इंटरलॉकिंग टाइल्स बनाने में करेगा।

प्लांट में भेजा गया 
दंगे में इस्तेमाल किए गए ईंट-पत्थरों को शास्त्री पार्क स्थित प्लांट में तोड़ा जाएगा, जिनका इस्तेमाल इंटरलॉकिंग टाइल्स में किया जाएगा। इंटरलॉकिंग टाइल्स बनाने में रेत, पत्थर और सीमेंट आदि का प्रयोग किया जाता है।

456 जले हुए वाहन जब्त किए 
पूर्वी दिल्ली नगर निगम के शाहदरा उत्तरी जोन के कर्मचारियों ने दंगा प्रभावित क्षेत्रों से जली हुईं 424 कार और 32 छोटे वाहन जब्त किए हैं। इन वाहनों को संबंधित क्षेत्र के थानों में जमा कराया गया है।

चार दिन तक अभियान चला
पूर्वी निगम ने सोमवार को दंगा प्रभावित इलाकों से ईंट, पत्थर, रोड़े और जले वाहन एकत्रित करने का अभियान शुरू किया था, जो गुरुवार को पूरा हो गया। इस अभियान में लगभग 200 ऑटो, 80 मिनी ट्रक और 500 कर्मचारियों को लगाया गया था।

पूर्वी दिल्ली नगर निगम सूचना निदेशक अरुण सिंह ने बताया कि दंगा प्रभावित इलाकों की सड़कों और गलियों से उठाए गए ईंट, पत्थर और रोड़ों का इस्तेमाल इंटरलॉकिंग टाइल्स बनाने में किया जाएगा। निगम की प्लॉट में यह काम किया जा रहा है।

loading...
Loading...

Related Articles