कारोबार

कोरोना वायरस के कारण बढ़ी GST रिटर्न की तारीख दाखिल

नई दिल्ली। कारोबारियों के लिए मार्च- मई की जीएसटी रिटर्न दाखिल करने की अंतिम तारीख 30 जून 2020 कर दी गई है। तारीख बढ़ाते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि पांच करोड़ रुपये तक का कारोबार करने वाली कंपनियों से जीएसटी रिटर्न दाखिल करने में देरी पर कोई विलंब शुल्क, जुर्माना अथवा ब्याज नहीं लिया जायेगा।

सीतारमण ने मंगलवार को वीडियो कन्फ्रेंसिंग के जरिये कहा कि पांच करोड़ रुपये से अधिक कारोबार करने वाली कंपनियों के मामले में 15 दिन के भीतर जीएसटी रिटर्न दाखिल करने पर कोई विलंब शुलक और जुर्माना नहीं लिया जायेगा। ऐसे मामलों में देरी होने पर 9 फीसद की घटी दर पर ब्याज लगाया जायेगा।

इस अवसर पर उपस्थित वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि सबसे पहले जो भी वैधानिक और नियामकीय अनुपालन संबंधी दिक्कतें हैं सरकार की तरफ से उन्हें दूर करने के कदम उठाये गये हैं। वर्ष 2018-19 की आयकर रिटर्न दाखिल करने की अंतिम समय सीमा को 30 जून तक बढ़ा दिया गया है।

देरी से रिटर्न दाखिल करने के मामले में विलंब शुल्क को 12 फीसद से घटाकर 9 फीसद किया गया है। इसी प्रकार कारोबारियों के लिये स्रोत पर कर कटौती (टीडीएस) को 30 जून 2020 तक जमा कराने पर 9 फीसद की घटी दर से विलंब शुल्क लिया जायेगा। इसमें किसी प्रकार की समयसीमा नहीं बढ़ाई गई है लेकिन देरी से जमा पर ब्याज दर को 18 फीसद से घटाकर 9 फीसद किया गया है।

loading...
Loading...

Related Articles

Back to top button