बिहार

सरकारी कार्यालयों को खोलने का निर्णय स्वागतयोगय – आर के सिन्हा

Welcome decision to open government offices - RK Sinha

संवाददाता-  रूपेश रंजन सिन्हा

पटना। भाजपा के पूर्व राज्यसभा सांसद आर के सिन्हा ने कहा कि प्रसन्नता का विषय है कि बिहार के माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी ने 20 अप्रैल से सरकारी कार्यालयों को खोलने का निर्णय किया है और जल, जीवन और हरियाली तथा सरकार के सात निश्चयों को आधार बनाते हुए रोजगार परक नई कार्य योजनाओं को लागू करने का संकेत भी दिया है। इससे लाखों की संख्या में जो प्रवासी बिहारी मजदूर देश के विभिन्न राज्यों से अपने गांव वापस लौटे हैं, उनको काम मुहैया कराने में सुविधा होगी और इस संकट की घड़ी में उनका बहुत बड़ा कल्याण होगा। मैं इस निर्णय का हृदय से स्वागत करता हूँ ।

अभी बिहार सरकार के सामने सबसे बड़ी चुनौती यह है कि पुलिस कर्मियों और चिकित्सा कर्मियों पर हो रहे सुनियोजित हमलों पर कैसे तत्काल नियंत्रण पाया जाये। क्योंकि, इन हमलों पर नियंत्रण नहीं हो पाने के कारण सरकार के कामकाज की आलोचना शुरू हो गयी हैं, जो सरकार द्वारा किये गये अच्छे कामों पर भी पानी फेर रही है और उनसे आम जनता का ध्यान भटका रही है। इसलिए सरकार का ध्यान जहां एक तरफ कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए होना चाहिए, उतना ही ध्यान कानून व्यवस्था को सख्त करने और असमाजिक तत्वों के विरूद्ध कड़ी से कड़ी कारवाई करने के लिए होना चाहिए।

उन्होंने कहा कि वैसे तो तबलीगी जमात का कनेक्शन बिहार से बहुत पुराना रहा है और लगभग हरेक जिलों में तबलीगी जमात का सक्रिय संगठन है। तबलीगी जमात को अभी तक तो भारत में ज्यादा लोग, मदरसों में धार्मिक शिक्षा प्राप्त कर धर्म का प्रचार करने वाले जमात के रूप में ही जानते थे। क्योंकि, आधुनिक शिक्षा न होने के कारण जमाती कट्टरपंथी  भी थे और अंधविश्वासी भी। गरीब तबकों से ही इनका ज्यादा संबंध था। लेकिन, अब तो रोज -रोज नये रहस्योघाटन हो रहे है।

अब तो यह भी पता चला है कि इन्फोरसमेंट डायरेक्ट्रेट (ईडी) ने यह तथ्य भी जुटाये हैं कि मरकज को कोरोना संक्रमण को देशभर में फैलाने के लिए विदेशों से भारी फंडिंग हुई है। इनका आतंकवादी संगठन अल कायदा से सम्बन्धों का भी पता चला है। यह बहुत गंभीर बात है। बिहार में जिस तरह से इन्होंने माननीय मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार के गृह जिले नालन्दा में साढे छह सौ से ज्यादा जमातियों का  लॉकडाउन के दौरान एक मरकज का आयोजन किया, जिसमें बिहार और झारखंड के अनेक जिलों से जमाती आये यह गंभीर मामला है।  इससे नवादा, दरभंगा, और मधुबनी में संक्रमण फैला भी। भविष्य में ऐसी घटना की पुनरावृत्ति न हो इस पर राज्य सरकार कठोर कदम उठाये ।

loading...
Loading...

Related Articles