उत्तर प्रदेश

पुलिस मुठभेड़ में एडीएम का बेटा चढ़ा पुलिस के हत्थे

केजीएमयू के डॉ को गोली मारकर कार लूटने का मामला

लखनऊ। राजधानी के सुशांत गोल्फ सिटी थाना क्षेत्र में पिछली 20 अप्रैल को पुलिस की चेकिंग के बीच हुई केजीएमयू के प्रोफ़ेसर से गोली मारकर लूट का पुलिस ने खुलासा करते हुए मुठभेड़ के दौरान दो बदमाशों को गिरफ्तार करने का दावा किया है। पुलिस का दावा है कि बदमाशों के क्षेत्र में होने की सूचना के आधार पर घेराबंदी की गई तो बदमाशों ने गोलियां चलाना शुरू कर दिया। जबावी कार्रवाई में पुलिस की गोली लगने से बदमाश घायल हो गए जिन्हे अस्पताल में भर्ती कराया गया। स्थानीय थाना की पुलिस ने क्राइम ब्रांच के साथ संयुक्त रूप से कार्रवाई करते हुए बदमाशों को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से डॉक्टर से लूटी गई कार और तमंचा कारतूस भी बरामद किया हैं। पुलिस पकड़े गए बदमाशों के खिलाफ आगे की कार्रवाई कर रही है।

बता दें कि, विगत 20 अप्रैल को सुशांत गोल्फ सिटी थाना क्षेत्र में रात करीब 8:15 बजे चौधरी खेड़ा गांव के पास बाइक से आये बदमाशों ने डॉक्टर पर हमला बोल दिया था। केजीएमयू के चिकित्सक डॉ. विजय कुमार सिंह अपनी कार से जा रहे थे, तभी अचानक उन्हें बदमाशों ने गोली मारकर कार और मोबाइल फोन लूट लिया था। वारदात की सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची और घायल अवस्था में डॉक्टर को केजीएमयू में भर्ती कराया। यहां से प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें घर भेज दिया गया था। पुलिस ने मुकदमा दर्ज करते हुए बदमाशों की तलाश शुरू कर दी थी। खुलासे के लिए कई टीमें लगाई गई थी। शनिवार को बदमाशों के क्षेत्र में होने की सटीक सूचना पर अवध विहार योजना के आस-पास होने की सूचना पाकर इन्स्पेक्टर सुशांत गोल्फ सिटी अजय कुमार सिंह के नेतृत्व में पुलिस टीम ने घेराबंदी की तो बदमाश फायरिंग करने लगे। जबाबी कार्रवाई में पुलिस की गोली लगने से बदमाश घायल हो गए जिन्हे गिरफ्तार कर उनके कब्जे से लूट की कार और तमंचा बरामद हुआ है। फ़िलहाल पुलिस इस लूटकांड के खुलासे को बड़ी उपलब्धि मान रही है। मुठभेड़ में गिरफ्तार बदमाश आयुष रावत और यशार्थ सिंह हैं। बताया जा रहा है कि यथार्थ एडीएम का बेटा है।

लखनऊ पुलिस कमिश्नर सुजीत पांडेय का कहना है कि विगत दिनों इन बदमाशों ने केजीएमयू के डॉक्टर को गोली मारकर उनसे उनकी कार लूट ली थी। गोली लगने के बाद डॉक्टर को केजीएमयू में भर्ती कराया गया था। उन्होंने कहा कि क्राइम ब्रांच और एसीपी की संयुक्त टीम ने इन बदमाशों के होने की सूचना मिली थी। जिसपर पुलिस ने घेराबंदी कर उनको दबोचना चाहा लेकिन बदमाशों ने उनपर फायरिंग कर दी। पुलिस ने मोर्चा संभालते हुए दोनों बदमाशों को गिरफ्तार किया है और उनके पास से लूटी हुई कार भी बरामद किया है। साथ ही उन्होंने कहा कि इस वारदात का 72 घंटे में खुलासा करने पर उनकी तरफ से पुलिस टीम को 25 हजार का इनाम भी दिया जाएगा। फिलहाल अभी रिकवरी का काम चल रहा है।

loading...
Loading...

Related Articles