बिहार

भारतीय रेलवे ने एल्स्टॉमद्वारा बनाए गए ‘मेड-इन-इंडिया’ लोकोमोटिव्स का उपयोग शुरू किया

Indian Railways started using 'Made-in-India' locomotives made by Alstom

भारतीय रेल ने ‘ग्रीन रेलवे’ में तब्दील होने के अपने उद्देश्य की ओर कदम बढ़ाया

पटना। एल्स्टॉम ने भारतीय रेल को 12000 हॉर्सपॉवर,डब्लूएजी-12बी इलेक्ट्रिकलोकोमोटिव्स की डिलीवरी शुरू कर दी,जिसके बाद देश में माल ढुलाई लॉजिस्टिक्स के क्षेत्र में क्रांति आ जाएगी। एल्स्टॉम द्वारा निर्मित एवं रेलवे मंत्रालय व रेलवे सुरक्षा आयुक्त (आरडीएसओ) द्वारा सर्टिफाईड ये डब्लूएजी 12बी इंजन भारतीय पटरियों पर चलने वाले सबसे ज्यादा पॉवर के लोकोमोटिव्स हैं।

डब्लूएजी 12बी (ई-लोको) की शुरुआत से भारी माल ढुलाईगाड़ियों का ज्यादा तीव्र व ज्यादा सुरक्षित परिवहन सुनिश्चित होगा, जो 120 किलोमीटर प्रति घंटा की सर्वोच्च गति से 6000 टन फ्रेट की ढुलाई कर सकेंगे। समर्पित फ्रेट कॉरिडोर (डीएफसी) पर चलाने की योजना के साथ ये ई-लोको भारत में मालगाड़ियों की गति में 20 से 25 किलो मीटर प्रतिघंटा की बढ़ोत्तरी कर देंगे। इंसुलेटेड गेट बाईपोलर ट्रांज़िस्टर्स (आईजीबीटी) पर आधारित प्रोपल्ज़न टेक्नॉलॉजी युक्त इन इंजनों में रिजनरेटिव ब्रेकिंग के उपयोग के कारण बिजली की खपत में काफी बचत की जा सकेगी। साथ ही इस कदम से न केवल मालगाड़ी चलाने का खर्च कम होगा, अपितु भारतीय रेल के सामने कन्जेस्शन की समस्या घट जाएगी।

एल्स्टॉम इंडिया एवं साउथ एशिया के मैनेजिंग डायरेक्टर के मैनेजिंग डायरेक्टर, एलेन स्पोहरने कहा, ‘‘एल्स्टॉम को भारतीय रेल को इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव की आपूर्ति शुरू करने की खुशी है। इसके आईआर फ्लीट में शामिल होने की शुरुआत से देश के प्रति हमारी प्रतिबद्धता प्रमाणित होती है। यह क्रांतिकारी उत्पाद ज्यादा तीव्र, सुरक्षित एवं ईको-फ्रेंडली होगा। साथ ही यह भारत में सतत मोबिलिटी के सफर मे एक नए अध्याय की शुरुआत है और हमे इस शुरुआत मे साझेदारी करने की खुशी है।

loading...
Loading...

Related Articles