बिहार

पत्रकारों के स्वतंत्र लेखनी पर हुआ कठोर प्रहार

Strict attack on independent authorship of journalists

रूपेश रंजन सिन्हा

पटना। बिहार सहित देश जहां आज कोरोना वारियर्स स्वास्थ्यकर्मी, सफाईकर्मी, पुलिसकर्मी और मीडियाकर्मी आदि अपना बहुमूल्य जीवन इस समय समाज सेवा/मानव सेवा करने में लगा दिया है वहीं मधेपुरा जिला के उदाकिशुनगंज थाना क्षेत्र में तो थाना पुलिस हाथ-धोकर मिडीयाकर्मी के पीछे ही पड़ गई है। मामला की बात करें तो उदाकिशुनगंज प्रखंड में हो रहे शराब विक्री को लेकर लगातर खबर प्रकाशित करने वाले पत्रकारों पर उल्टे आरोपियों द्वारा दिए आवेदन पर प्राथमिकी दर्ज कर दिए जाने का है। नेशनल जर्नलिस्ट एसोसिएशन ऐसे प्रशासनिक कार्य-कलापों से हतप्रभ है और इसे पत्रकार के स्वतंत्र लेखनी पर प्रशासन द्वारा कठोर प्रहार करार दिया है।

इस संदर्भ में नेशनल जर्नलिस्ट एसोसिएशन के बिहार प्रदेश के वरीय उपाध्यक्ष सी.के.झा ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि उदाकिशुनगंज थाना के स्थानीय प्रशासन के द्वारा मधेपुरा जिला के उदाकिशुनगंज के ब्रांडेड बैनर दैनिक भास्कर,सन्मार्ग आदि के पत्रकारों के साथ प्राथमिकी दर्ज किए जाने के कृत के लिए जितनी निंदा की जाए कम है।

पत्रकारों पर स्थानीय प्रशासन द्वारा इस आपत्तिजनक दर्ज हुए प्राथमिकी पर नेशनल जर्नलिस्ट एसोसिएशन के रास्ट्रीय अध्यक्ष राकेश गुप्ता, राष्ट्रीय महासचिव संजय कुमार सुमन, राष्ट्रीय महासचिव कुमुद रंजन सिंह, प्रदेश कोषाध्यक्ष संजय कुमार, अध्यक्ष अबोध ठाकुर, मधेपुरा जिलाध्यक्ष सिकंदर सुमन सहित संगठन के दर्जनों पदाधिकारियों ने संयुक्त रूप से इस प्राथमिकी पर क्षोभ व्यक्त कर इसे प्रशासन की नाकामयाबियों को छिपाने हेतु गलत कार्रवाई करार दिया है और वरीय पदाधिकारियों से इस प्रकरण की गहरी,स्पष्ट और निष्पक्ष जांच कर दोषियों पर कार्रवाई की मांग की है।

नेशनल जर्नलिस्ट एसोसिएशन द्वारा अनेक माध्यमों से इस प्रकरण के निष्पक्ष कार्रवाई के लिए मधेपुरा डीएम, एसपी,डीआईजी, कमिश्नर, डीजीपी बिहार, मुख्य सचिव बिहार, मंत्री सूचना एवं जनसंपर्क विभाग,मुख्य मंत्री बिहार एवं प्रेस ऑफ कौंसिल दिल्ली सहित अन्य कई पदाधिकारी को पत्र भेज कर उचित जांच-पड़ताल के साथ इसकी निष्पक्ष जांच की मांग किया है।

नेशनल जर्नलिस्ट एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष राकेश गुप्ता और राष्ट्रीय महासचिव ने संयुक्त रूप से कहा कि स्थानीय प्रशासन शराब कारोबारियों को छोड़ उल्टे पत्रकारों पर हीं मामला दर्ज कर दिए जाने से पत्रकारों के स्वतंत्र लेखनी पर कुठाराघात किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि एनजेए इस प्रकार के पुलिस के मीडियाकर्मियों के साथ गलत व्यवहार और कार्रवाई से चिंतित है और वरीय पदाधिकारियों से निष्पक्ष जांचकर दोषियों पर कठोरतम कार्रवाई की मांग की है।

प्रदेश अध्यक्ष अबोध ठाकुर ने इस प्रकरण पर खेद व्यक्त करते हुए कहा कि उदाकिशुनगंज प्रशासन की स्थानीय पत्रकारों द्वारा विभिन्न बैनरों में लगातार प्रशासन के दोषपूर्ण रवैया, शराब कारोबारियों की खबर और इनके अन्य दोषपूर्ण कृत्य के खबर छापने से बौखलाए थाना पुलिस और पदाधिकारी द्वारा मामले के उलट पत्रकारों पर ही केस दर्ज किया जाना प्रशासनिक विफलता को दर्शा रहा है और पत्रकारों को सबक सिखा देने की यह गहरी साज़िश सा प्रतित हो रहा है।

loading...
Loading...

Related Articles