हरदोई

निलंबित सण्डीला सीएचसी अधीक्षक शरद वैश्य ने अपने निलंबन का ठीकरा डीएम पर फोड़ा

डीएम पुलकित खरे को पद से हटाने की मांग पूरी न हुई तो डॉक्टर्स देंगे सामूहिक इस्तीफा

जांच में पाए गए थे दोषी,हुआ था निलंबन

हरदोई 26 मई।उत्तर प्रदेश शासन पर दबाव बनाने के लिए शासन के निर्देश पर निलंबित हुए विवादित सण्डीला सीएचसी के अधीक्षक डॉ. शरद वैश्य ने अपने निलंबन का ठीकरा डीएम पुलकित खरे पर फोड़कर पद से हटाने की मांग की है।प्रांतीय चिकित्सा सेवा संघ ने एक ज्ञापन जारी किया है।ऐसा न होने की स्थिति में कोविड 19 ड्यूटी का बहिष्कार करने व सामूहिक इस्तीफा देने की भी बात कही है। इस ज्ञापन को जिले में डॉ शरद वैश्य द्वारा दबाव की राजनीति करने की चर्चा है।मालूम हो कि प्रांतीय चिकित्सा सेवा संघ के अध्यक्ष डा.स्वामी दयाल के हस्ताक्षर से जारी ज्ञापन में सण्डीला सीएचसी के अधीक्षक डॉ. शरद वैश्य के निलंबन का ठीकरा जिलाधिकारी पुलकित खरे पर फोड़ा गया है। कहा गया है कि बीते 09 अक्टूबर 2019 को चिकित्सकों का विवाद जिलाधिकारी पुलकित खरे से हो गया था, जिससे वह इसे व्यक्तिगत मानहानि के रूप में लेते हुए डॉ.शरद के विरुद्ध जांच संस्थापित करते हुए आरोपित किया और निलंबन करा दिया।इसलिए प्रकरण की जांच पूरी होने तक जिलाधिकारी पुलकित खरे को अपने पद से हटाया जाए।ऐसा न होने की स्थिति में सभी डॉक्टर्स 01 हफ्ते तक काली पट्टी बांधकर विरोध करेंगे। जबकि दूसरे सप्ताह से कोविड 19 ड्यूटी का विरोध करेंगे व सामूहिक इस्तीफा दे देंगे।डॉ शरद वैश्य को लेकर प्रांतीय चिकित्सा सेवा संघ द्वारा जारी ज्ञापन को दबाव बनाने के रूप में देखा जा रहा है।

loading...
Loading...

Related Articles