उत्तर प्रदेशलखनऊ

लखनऊ में फिर कोरोना विस्फोट, जीआरपी के सात सिपाही व आरपीएफ के दो बच्चों समेत 10 संक्रमित

लखनऊ।  उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में कोरोना संक्रमण को प्रसार जारी है। रविवार को सात जीआरपी के जवान, आरपीएफ सिपाही का 10 साल का बेटा और आठ साल की बेटी व एक बारूदखाना निवासी मरीज में वायरस की पुष्टि हुई है। बीते दिन यानी शनिवार को एक निजी अस्पताल के दो डॉक्टर-नर्स समेत चार लोगों में वायरस की पुष्टि हुई। इसमें तीन शहर के निवासी हैं। वहीं, एक मरीज प्रतापगढ़ का है। उधर, शहर में दो और हॉटस्पॉट बढ़ गए हैं।  ऐसे में राजधानी में कोरोना के मरीजों की संख्या 376 हो गई है।
निजी अस्पताल के दो डॉक्टर-नर्स समेत चार को कोरोना
ठाकुरगंज क्षेत्र के निजी अस्पताल में एक मरीज भर्ती किया गया था। पांच दिन पहले जांच में कोरोना की पुष्टि हुई थी। इसके बाद मरीज को पीजीआइ शिफ्ट कर दिया गया। वहीं, निजी अस्पताल के संपर्क में आए डॉक्टर-नर्स को क्वारंटाइन कर दिया गया। शनिवार को जांच में दो डॉक्टर व एक नर्स में कोरोना की पुष्टि हुई है। एक डॉक्टर चौक व दूसरा कुर्सी रोड का निवासी है। इसके अलावा नर्स हॉस्टल में निवास करती थी। इन्हें लोहिया-पीजीआइ भर्ती के निर्देश दिए गए हैं।
दो हॉटस्पॉट और बढ़े 
ठाकुरगंज क्षेत्र के एक निजी अस्पताल में दो डॉक्टरों और एक नर्स की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद हॉस्पिटल के आसपास वाले इलाके को नया हॉटस्पॉट बनाया गया  है। वहीं, कैंट थानाक्षेत्र के वाल्मीकि मोहाल में एक ही परिवार के 11 लोगों में कोरोना की पुष्टि होने के बाद इस इलाके को भी हॉटस्पॉट सूची में डाल दिया गया है।  इसी के साथ राजधानी में हॉटस्पॉट इलाकों की संख्या पांच से बढ़कर सात हो गई।  राजधानी में वायरस की चेन ब्रेक नहीं हो रही है। सात मई को एक भी केस नहीं आया था। उसके बाद लगातार मरीजों का आना जारी है। मई में दो दिन सर्वाधिक मरीज 15-15 आए। वहीं 23 दिन तक लगातार मामले रिपोर्ट किए गए।
loading...
Loading...

Related Articles