पटनाबिहार

सरकारी जमीन कब्जा कर रहें तीन भू-माफियाओं के खिलाफ एफआईआर

सफेदपोश के संरक्षण में जमीन कब्जा करने का खेल, करोड़ों कर प्रतिदिन घोटाला

>> एक सप्ताह पहले दस लोगों के खिलाफ की गयी थी कार्रवाई

>> बिहार राज्य आवास बोर्ड मुख्यालय ने कर दिया स्पष्ट अधिग्रहण 1024 एकड़ में किसी का दावा गलत

पटना ( अ सं ) । ” तरूणमित्र ” हिन्दी दैनिक द्वारा किया गया खुलासा   ” 300 करोड़ का जमीन घोटाला ” का खबर प्रकाशित होने के बाद बिहार राज्य आवास बोर्ड ,अपने अधिग्रहण 1024 एकड़ जमीन में खाली प्लॉट की सुरक्षा में सक्रियता पूर्वक जुट गयी हैं । सरकारी जमीन कब्जा कर रहें तीन भू-माफिया के खिलाफ कार्यपालक अभियंता प्रकाश चंद्र राजू ने दीघा व राजीवनगर थाने में एफआईआर दर्ज कराया हैं । बिहार राज्य आवास बोर्ड मुख्यालय ने पटना जिला पुलिस -प्रशासन को लिखे पत्र में स्पष्ट कर दिया हैं की अधिग्रहण 1024 एकड़ में किसी का दावा गलत हैं ।
       बिहार राज्य आवास बोर्ड के कार्यपालक अभियंता प्रकाश चंद्र राजू द्वारा कराएं गये एफआईआर के अनुसार दीघा थाना क्षेत्र स्थित अधिग्रहण भू-खंड, सरकारी जमीन को गुड्डू कुमार द्वारा अवैध निर्माण कर कब्जा किया जा रहा था। इनके विरूद्ध दीघा थाने में एफआईआर दर्ज कराया गया हैं ।
      इसी तरह  राजीवनगर थाना क्षेत्र में बिहार राज्य आवास बोर्ड के अधिग्रहण जमीन पर अवैध निर्माण कर कब्जा कर रहें अमोद कुमार ,जिला भोजपुर व फुलेन्द्र कुमार सिंह ,राजीवनगर के खिलाफ थाने में प्राथमिकी दर्ज हुआ हैं ।
     एक सप्ताह पहले मे प्लावर स्कूल के पीछे सरकारी जमीन कब्जा  कर रहें उदय साह, अजय साह, विनय साह, विनोद साव, संजय साव ,रमेश साव, शंकर साह व डब्लू साव के खिलाफ दीघा थाने में एफआईआर दरें कराया गया था।
   बिहार राज्य आवास बोर्ड द्वारा लगातार भू-माफियाओं के खिलाफ हो रहें कार्रवाई से खलबली मच गयी हैं । बिहार राज्य आवास बोर्ड ने पत्र लिखकर पटना के जिलाधिकारी व एसएसपी को स्पष्ट कहां हैं की दीघा-राजीवनगर में अधिग्रहण 1024 एकड़ पर किसी निजी व्यक्ति या फिर किसी कॉपरेटिव का जमीन नहीं हैं ,अगर कोई दावा करते है तो सब फर्जी व गलत है। चुकी सन् 1973 -74 में ही अधिग्रहण की कार्रवाई संपन्न कर ली गयी हैं ।
loading...
Loading...

Related Articles