Main Sliderउत्तर प्रदेशलखनऊ

अल्पसंख्यक विभाग के चेयरमैन की गिरफ्तारी अवैध: लल्लू

-शाहनवाज की असंवैधानिक गिरफ्तारी योगी सरकार को पड़ेगी महंगी:तनुज पुनिया

लखनऊ, 30 जून। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने मंगलवार को जारी बयान में कहा कि यूपी कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के चेयरमैन शाहनवाज आलम की गिरफ्तारी गैरकानूनी है। प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि शाहनवाज आलम को अवैध तरीके से सादी वर्दी में कुछ पुलिस वाले अगुवा किये और दो घंटे तक उनके बाबत कोई भी जानकारी नहीं दी गयी। सुबह कांग्रेस कार्यालय से विरोध दर्ज कराने जा रहे प्रदेश अध्यक्ष और विधानमंडल दल की नेता आराधना मिश्रा मोना समेत सैकड़ों कार्यकतार्ओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया और शाम को रिहा किया। अजय कुमार लल्लू ने पूरे प्रदेश में भाजपा सरकार दमन का चक्र चला रही है। आये दिन पुलिस के दम पर लोकतंत्र को कुचला जा रहा है। अल्पसंख्यक विभाग के चेयरमैन शाहनवाज आलम की देर रात गिरफ्तारी अवैध , अलोकतांत्रिक और निंदनीय है। कहा कि भाजपा सरकार यूपी पुलिस को दमन का औजार बनाकर दूसरी पार्टियों को आवाज उठाने से रोक सकती है, हमारी पार्टी को नहीं। आराधना मिश्रा ने इस पुलिसिया राज की कड़ी निंदा करते हुए कहा कि यह योगी आदित्यनाथ की सरकार का राजनीतिक द्वेषपूर्ण और कायरता भरा कदम है। बता दें कि शाहनवाज को पुलिस ने गोल्फ लिंक अपार्टमेंट्स के गेट से बीती रात उठा लिया। इसी कड़ी में कांग्रेस अनुसूचित विभाग के उपाध्यक्ष तनुज पुनिया के हवाले से कहा गया कि सत्ता पोषित दमन से हम कांग्रेस राहुल-प्रियंका के सिपाही डरेंगे नहीं, सड़क पर संघर्ष करेंगे। उन्होंने कहा कि छात्रनेता रहे और दलितों-वंचितों के लड़ाई लड़ने वाले यूपी अल्पसंख्यक कांग्रेस के चेयरमैन की गिरफ्तारी योगी आदित्यनाथ की सरकार को बहुत महंगी पड़ेगी। वहीं इसी क्रम में प्रदेश अध्यक्ष लल्लू ने संतगाडगे सेवा समिति के मुख्य पदाधिकारियों को पार्टी की सदस्यता भी दिलायी।

loading...
Loading...

Related Articles